फ्रेंकफ़ुर्त हवाई अड्डे पर गोलीबारी, दो मरे

फ्रेंकफ़ुर्त हवाई अड्डे पर गोलीबारी इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption फ्रेंकफ़ुर्त हवाई अड्डे के पास ही अमरीका का विशाल वायुसैनिक अड्डा है

जर्मन पुलिस ने कहा है कि फ्रेंकफ़ुर्त हवाई अड्डे पर अमरीकी सैनिक कर्मचारियों के ले जा रहे एक वाहन पर एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध गोलियाँ चलाई हैं जिसमें दो लोगों की मौत हो गई.

अमरीकी वायु सेना ने कहा है कि इस गोलीबारी में दो अमरीकी वायु सैनिकों की मौत हुई है और दो अन्य घायल हो गए.

टर्मिनल – 2 के सामने हुई इस घटना के सिलसिले में कोसोवो के एक 21 वर्षीय नागरिक को गिरफ़्तार किया गया.

फ़्रेंकफ़ुर्त को यूरोप का दूसरा सबसे व्यस्त हवाई अड्डा कहा जाता है.

पुलिस ने जर्मन मीडिया से कहा है कि अभी ये स्पष्ट नहीं है कि क्या ये कोई आतंकवादी हमला था.

कोसोवो के आंतरिक मामलों के मंत्री बजरम रेक्सहेपी ने कहा कि जर्मन पुलिस ने संदिग्ध हमलावर को गिरफ़्तार कर लिया है जो उत्तरी क़स्बे मितरोवीका का रहने वाला है.

मंत्री ने समाचार एजेंसी एपी से कहा, “ये एक दुखद और हृदय विदारक घटना है. ये पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि क्या ये कोई संगठित हमला था और कुल मिलाकर ये किस तरह का हमला था.”

रॉयटर्स समाचार एजेंसी के अनुसार जर्मन प्रांत हैसे के आंतरिक मामलों के मंत्री बोरिस रेहईन ने पुष्टि की कि बंदूकधारी कोसोवो का ही नागरिक है.

बर्लिन में मौजूद बीबीसी संवाददाता स्टीफ़ेन ईवान्स का कहना है कि फ्रेंकफ़ुर्त हवाई अड्डा रेम्सटीन वायु सैनिक अड्डे से ज़्यादा दूर नहीं है. यहाँ पर अमरीकी वायु सेना का अड्डा है जो यूरोप का सबसे बड़ा है.

जर्मनी में मार्च 2010 में अमरीकी वायु सैनिक अड्डे को निशाना बनाने की साज़िश रचने के आरोप में चार लोगों को दोषी पाया गया था जिन्हें इस्लामी चरमपंथी बताया गया था.

जर्मन संसद ने फ़रवरी 2011 में ही अफ़ग़ानिस्तान में विदेशी सेनाओं के अभियान में अपनी भागीदारी एक साल के लिए बढ़ाई है.

अफ़ग़ानिस्तान में जर्मनी के चार हज़ार 860 सैनिक तैनात हैं, हालाँकि जर्मनी के ज़्यादातर लोग अफ़ग़ान मिशन को पसंद नहीं करते हैं.

संबंधित समाचार