फ़िलहाल लीबिया पर 'नो-फ़्लाई ज़ोन' नहीं

रॉबर्ट गेट्स इमेज कॉपीरइट REUTERS
Image caption रॉबर्ट गेट्स ने कहा कि नो-फ़्लाई ज़ोन लागू करने से पहले लीबिया के हवाई सुरक्षा तंत्र को नष्ट करना होगा.

अमरीकी रक्षामंत्री रॉबर्ट गेट्स ने लीबिया पर 'नो-फ़्लाई ज़ोन' लागू करने की चर्चा को ज़्यादा गंभीरता से नहीं लिया है.

रॉबर्ट गेट्स ने वॉशिंगटन में अमरीकी संसद की एक उप-समिति को बताया है कि लीबिया में सैनिक विकल्पों को लेकर कुछ ग़ैर-संजीदा बाते कही जा रही हैं.

गेट्स ने कहा कि लीबिया पर 'नो-फ़्लाई ज़ोन' लागू करने से पहले उसके हवाई सुरक्षा ढांचे को नष्ट करना पड़ेगा और ये काम इकलौता युद्धपोत नहीं कर सकता.

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र में चीनी राजदूत ली बाओडोंग ने कहा था कि 'नो-फ़्लाई ज़ोन' के बारे में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को अरब और अफ़्रीकी देशों के नज़रिए का सम्मान करना चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र में बीबीसी संवाददाता का कहना है कि रूस समेत कुछ अन्य देश लीबिया पर 'नो-फ़्लाई ज़ोन' लागू करने का तब तक समर्थन नहीं कर सकते हैं जब तक गद्दाफ़ी की सेना आम लोगों पर हवाई हमला ना करे.

गद्दाफ़ी को झटका

इस बीच लीबिया में तेल व्यापार के एक प्रमुख केंद्र ब्रेगा शहर पर कब्ज़े की कोशिशों को विफ़ल करते हुए विद्रोहियों ने कर्नल गद्दाफ़ी के समर्थक सैनिकों को खदेड़ दिया है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption ब्रेगा पर गद्दाफ़ी समर्थकों के हमला नाकाम रहा है.

शहर पर विद्रोहियों के कब्ज़े के बाद गद्दाफ़ी के समर्थक सैनिकों ने पूर्वी हिस्से को फिर अपने नियंत्रण में लेना चाहा,लेकिन प्रदर्शनकारियों और सरकार का विरोध कर रहे लोगों ने सेना की कोशिशों को नाकाम कर दिया.

संघर्ष की शुरूआत में आ रही ख़बरों से लग रहा था कि अत्याधुनिक हथियारों से लैस लीबियाई सेना का पलड़ा भारी है लेकिन विद्रोहियों ने ब्रेगा पर कब्ज़ा बरक़रार रखा.

लीबिया में गद्दाफ़ी समर्थकों और विरोधियों के बीच छिड़े संघर्ष के कारण हज़ारों लोग लीबिया छोड़कर भाग रहे हैं. लीबिया और ट्यूनिशिया की सीमा बड़ी संख्या में शरणार्थी पहुंच रहे हैं.

इनमें से अधिकतर मज़दूर हैं.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा है कि सीमा पर फंसे लोगों की जान दांव पर है और लगातार बढ़ती शरणार्थियों की संख्या ने ‘गंभीर मानवीय संकट’ पैदा कर दिया है.

ट्यूनिशिया सरकार के मुताबिक अब तक 80 हज़ार से ज़्यादा लोग लीबिया से पलायन कर ट्यूनिशिया की सीमा में दाखिल हो चुके हैं.

संबंधित समाचार