चे ग्वेरा के मोटरसाइकिल साथी ग्रेनाडो नहीं रहे

अलबर्टो ग्रेनाडो
Image caption ग्रेनाडो और ग्वेरा की मोटरसाइकिल यात्रा क्रांतिकारियों के लिए हमेशा से एक प्रेरणा का स्रोत रहा है.

लातिन अमरीकी क्रांतिकारी अर्नेस्तो चे ग्वेरा के साथी अलबर्टो ग्रेनाडो की क्यूबा में मौत हो गई है. वो 88 साल के थे.

क्यूबा की सरकारी मीडिया ने कहा है कि ग्रेनाडो की मौत प्राकृतिक कारणों से हुई है.

क्यूबा टेलिविज़न के अनुसार दाह संस्कार किया जाएगा और उनकी इच्छा के अनुसार उनकी राख को क्यूबा, अर्जेंटीना और वेनुज़ुएला में छींटा जाएगा.

ग्रेनाडो वही हैं जिनके साथ ग्वेरा ने मोटरसाइकिल पर पूरे लातिन अमरीका का भ्रमण किया था.

उन दोनों की इस मोटरसाइकिल यात्रा को 2004 में बनी फ़िल्म 'द मोटरसाइकिल डायरीज़' के ज़रिए अमर कर दिया गया है.

ग्वेरा और ग्रेनाडो ने 1951 में मोटरसाइकिल पर अपनी यात्रा की शुरूआत की थी और इस दौरान मेडिकल के उन दोनों छात्रों ने लातिन अमरीका की अत्यंत ग़रीबी और सामाजिक नाइंसाफ़ी को बहुत क़रीब से देखा था.

इसी यात्रा के दौरान चे ग्वेरा की क्रांतिकारी विचारधारा और दृढ़ हुई थी.

ग्रेनाडो का जन्म आठ अगस्त 1922 को अर्जेन्टीना के कॉरडोवा में हुआ था. बचपन में ही उनकी मुलाक़ात चे ग्वेरा से हो गई थी और फिर ये दोस्ती ज़िंन्दगी भर बनी रही.

1959 में क्यूबा के तानाशाह बटिस्ता का तख़्ता पलटने में फ़िडेल कास्त्रो की मदद करने के बाद चे ग्वेरा ने ग्रेनाडो को क्यूबा आने का न्योता दिया था.

1961 में क्यूबा पहुंचने के बाद ग्रेनाडो हवाना विश्वविधालय में बायोकेमिस्ट्री के अध्यापक हो गए.

ग्वेरा की मौत 1967 में हुई थी जब वो बोलिविया में क्रांति की अगुवाई करते हुए मारे गए थे.