परमाणु संयंत्र में ताज़ा विस्फ़ोट

लोग
Image caption फुकुशिमा परमाणु संयंत्र से रिसाव का खतरा है.

उत्तरी जापान में भूकंप से प्रभावित परमाणु संयंत्र में ज़बर्दस्त विस्फ़ोट की आवाज़ सुनाई पड़ी है.

स्थानीय मीडिया का कहना है कि फुकुशिमा दायची संयंत्र में तीसरा विस्फोट हुआ है जहां इंजीनियर इस संयंत्र को ठंडा करने के प्रयासों में लगे हुए हैं.

अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों का कहना है कि संयंत्र से रिसाव का खतरा नहीं है लेकिन एक मंत्री ने कहा है कि रिएक्टर की छड़ों के पिघलने की पूरी संभावना है.

जापान के अधिकारियों ने अभी तक ये नहीं बताया कि तीसरा विस्फोट किस कारण हुआ है.

इससे पहले सोमवार को फुकुशिमा दायची संयंत्र के रिएक्टर 3 में हुए विस्फोट में 11 लोग घायल हुए थे.

भूकंप और सुनामी के कारण तबाह हुए परमाणु संयंत्र को ठंडा करने के प्रयासों के बीच जापान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से इस मामले में मदद की अपील की है.

जापान में शुक्रवार को आए भूकंप और सुनामी के कारण फुकुशिमा शहर के एक परमाणु रिएक्टर में धमाका हुआ है और उसे ठंडा करने के लिए इंजीनियर जीतोड़ प्रयास कर रहे हैं.

जापान के अधिकारियों का कहना है कि विकिरणों के लीक होने का खतरा बहुत कम है.

अमरीका में परमाणु रिएक्टरों से जुड़े अधिकारियों का कहना है कि उनसे रिएक्टरों में होने वाली खराबी के कारण आने वाली आपदा से निपटने के बारे में विशेषज्ञों की सलाह मांगी गई है.

जापान का परमाणु संयंत्र बुरी तरह से टूट फूट गया है, उसमें पानी जा चुका है और इसकी बिजली कट चुकी है. इसके साथ ही रिएक्टर को ठंडा करने वाली प्रणाली भी फेल हो चुकी है जिससे लगता है कि रिएक्टर जल्दी ही पूरी तरह टूट जाएगा जिससे विकिरणों के रिसाव का गंभीर खतरा उत्पन्न हो सकता है.

अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी से भी जापान ने मदद मांगी है.

अंतरराष्ट्रीय बहस

जापान में परमाणु संयंत्रों को पैदा हुए खतरों को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय चिंताएं बढ़ गई हैं.

जापान की चांसलर एंगेला मर्कल ने फ़ैसला किया है कि जर्मनी के पुराने हो चुके परमाणु संयंत्रों का जीवन काल आगे बढ़ाने के निर्णय पर पुनर्विचार किया जाएगा.

स्विट्ज़रलैंड ने पूर्ण रुप से परमाणु रिएक्टरों की सुरक्षा संबंधी समीक्षा करने का फ़ैसला किया है और समीक्षा होने तक नए परमाणु संयंत्र बनाने पर रोक लगा दी है.

इस बीच इटली में परमाणु ऊर्जा विरोधी प्रदर्शनकारियों ने सरकार पर दबाव बनाना शुरु कर दिया है क्योंकि सरकार इस हफ्ते भविष्य में बनने वाले परमाणु संयंत्रों के स्थान पर विचार के लिए बैठक करने वाली है.

भारत ने कहा है कि वो ये निर्धारित करेगी कि परमाणु संयंत्र ऐसे क्षेत्रों में न हो जहां भूकंप आने की संभावना अधिक हो.

दक्षिण कोरिया और ताइवान ने भी अपने परमाणु कार्यक्रमों की पूर्ण समीक्षा करने की बात कही ह. दक्षिण कोरिया अगले कुछ वर्षों में 14 नए रिएक्टर बनाने की प्रक्रिया में है.

जापान में तबाही

पिछले हफ्ते जापान में आए भूकंप और सुनामी के बाद लाखों की संख्या में लोग बेहाल स्थिति में हैं.

देश के पूर्वोत्तर इलाक़े में लाखों लोगों ने लगातार चौथी रात बिना भोजन, बिजली और पानी के बिताई है.

समाचार एजेंसी क्योदो के अनुसार पाँच लाख से अधिक लोग बेघर हुए हैं. अभी भी देश के कई हिस्सों में संचार माध्यम ठप्प पड़े हुए हैं

सोमवार को देश के तटीय इलाक़ों में दो हज़ार से अधिक लाशें मिली हैं जिसमें से आधे शव मिनामीसानरिकू शहर में मिले हैं.

सुनामी की लहरों ने इस पूरे शहर को तबाह कर दिया था.

अभी भी लापता लोगों की संख्या हज़ारों में बताई जा रही है.

संबंधित समाचार