बहरीन में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों पर लाठी चार्ज

इमेज कॉपीरइट BBC World Service

बहरीन की पुलिस ने सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों को भगाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और पानी की बौछार की है.

बहरीन में राजधानी मनामा के मुख्य स्थल पर्ल चौक में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी पर डेरा जमाए हुए हैं.

इसके जवाब में प्रदर्शनकारियों ने पेट्रोल बम फेंके.

इस दौरान हेलिकॉप्टर परिस्थिति पर नज़र रखे हुए थे और टैंक जैसे सैनिक वाहनों ने प्रदर्शनकारियों द्वारा खड़ी की गई बाधाओं को तोड़ दिया.

मनामा स्थित बीबीसी संवाददाता का कहना है कि प्रशासन का पर्ल चौक पर नियंत्रण नज़र आ रहा है.

इन झड़पों से दो दिन पहले ही बहरीन सरकार ने सऊदी अरब के सैनिकों को देश में आमंत्रित किया था.

बिगड़ते हालात को देखते हुए मंगलवार को सरकार ने बहरीन में तीन महीनों के लिए आपाताकाल की घोषणा कर दी है.

सोमवार को सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने बहरीन की अपील पर वहां जनप्रदर्शन रोकने के लिए 1500 सैनिक भेजे थे.

ग़ौरतलब है कि सुरक्षाबलों के साथ को प्रदर्शनों में दो लोग मारे गए हैं.

दरअसल ईरान खाड़ी का एक प्रमुख शिया बहुल देश है और बहरीन में ज़्यादातर प्रदर्शनकारी शिया समुदाय के हैं.

बहरीन के बहुसंख्यक शिया लंबे समय से ये शिकायत करते रहे हैं कि वो सुन्नी शासकों के भेदभाव का शिकार हो रहे हैं.

लेकिन बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन पिछले महीने शुरु हुए जब मिस्र और ट्यूनीशिया में जन विद्रोह से सत्ता पलट गई.

संबंधित समाचार