मैं लोगों के लिए प्रार्थना कर रहा हूँ: सम्राट अकीहितो

  • 16 मार्च 2011
सम्राट अकीहितो
Image caption सम्राट अकीहितो का सार्वजनिक रूप से बयान देना एक असाधारण बात है

जापान के सम्राट अकीहितो ने कहा है कि वह भूकंप और सुनामी के बाद देश में आए संकट को लेकर 'बेहद चिंतित' हैं.

अकीहितो का लाइव टीवी पर आ कर देश को संबोधित करना एक असाधारण बात है. इस संकट के बाद पहली बार उन्होंने सार्वजनिक रूप से कोई टिप्पणी की है.

सम्राट ने यह भी कहा कि वह अपने देशवासियों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं.

इससे पहले भूकंप प्रभावित एक परमाणु संयंत्र की मरम्मत के काम में जुटे तकनीकी कर्मचारियों को अस्थाई रूप से अपना काम बंद करने के लिए बाध्य होना पड़ा.

इसके पहले अधिकारियों ने संयंत्र के 20 से 30 किलोमीटर की दूरी तक के लोगों को ये क्षेत्र छोड़कर चले जाने अथवा घरों में ही बने रहने को कहा था.

हालांकि उनका कहना है कि इस सीमा को बढ़ाने की उनकी कोई योजना नहीं है.

सम्राट का सदेंश

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जापान के सम्राट अकीहितो ने उम्मीद जताई कि सभी देशवासी एक साथ मिलकर इस मुश्किल वक़्त से उबर पाएंगे.

जापान के टीवी चैनलों ने सम्राट के संदेश को सुनाने के लिए बीच में ही अपने कार्यक्रम रोक दिए.

सम्राट ने अपने संदेश में कहा, "मैं तहे-दिल से उम्मीद करता हूं कि सभी लोग एक साथ मिलकर करूणा के साथ इस मुश्किल वक़्त का उबरेंगे. "

सम्राट अकीहितो अपने पिता हिरोहितो की मृत्यु के बाद वर्ष 1989 में सिंहासन पर बैठे थे.

सम्राट ने राहतकार्यों में तेज़ी लाने की बात भी कही.

भूकंप और सुनामी से बचने वाले क़रीब साढ़े चार लाख लोग स्कूलों में आश्रय लिए हुए हैं जहां वे कम होते भोजन, पानी और ठंड से जूझ रहे हैं.

अब कहा जा रहा है कि जापान में आए इस भयानक भूकंप और सुनामी में मरने वालों की संख्य कम से कम 10 हज़ार हो गई है और कई हज़ार लोग अब भी लापता हैं.

बाज़ार में उछाल

Image caption जापान के निक्केई सूचकांक में बुधवार को उछाल आया.

इस बीच में फ़्रांस ने टोक्यो में रह रहे अपने नागरिकों से देश छोड़ने या जापान के दक्षिण की ओर जाने की गुज़ारिश की है. फ़्रांस ने अपने नागरिकों के बचाव के लिए एअर फ़्रांस के दो हवाई जहाज़ भी जापान भेजे हैं.

ऑस्ट्रेलिया ने भी अपने नागरिकों से टोक्यो छोड़ने पर विचार करने को कहा है. तुर्की ने भी अपने लोगों को जापान की यात्रा करने से सावधान किया है.

उधर इस सप्ताह के पहले दो दिनों में 620 अरब डॉलर का नुकसान सहने के बाद जापान का शेयर बाज़ार बुधवार को 5.7 प्रतिशत के उछाल के साथ बंद हुआ है.

परमाणु संकट

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption इंजीनियर अब भी फ़ुकुशिमा में परमाणु दुर्घटना को रोकने के लिए जूझ रहे हैं.

फ़ुकुशिमा में इंजीनियर परमाणु त्रासदी को रोकने के लिए जूझ रहे हैं.

फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र में स्थित रिएक्टरों पर पानी बरसाने के लिए तैनात हेलीकॉप्टरों ने विकिरण के बढ़ते ख़तरे के बाद अपनी उड़ाने रोक दी हैं.

परमाणु संयंत्र के आस-पास हवाएं उत्तर-पश्चिम दिशा में प्रशांत महासागर की ओर बह रही हैं.

अधिकारियों के अनुसार संयंत्र के बाहर विकिरण का स्तर 1000 माइक्रोसिवर्ट्स से गिरकर 600-800 माइक्रोसिवर्ट्स हो गया है.

सरकार संयंत्र के बीस किलोमीटर दायरे से आम लोगों को हटा चुकी है और अधिकारियों का कहना है कि इस दायरे को बढ़ाने का फ़िलहाल उनका कोई इरादा नहीं है.

संयंत्र से 20 और 30 किलोमीटर के दायरे के बीच अब भी एक लाख 40 हज़ार लोग रह रहे हैं. इन लोगों को मंगलवार को बताया गया था कि वे अपने घरों में ही रहें.

संबंधित समाचार