मृतकों की संख्या 5,000 से अधिक

फ़ुकुशिमा संयंत्र इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption फ़ुकुशिमा संयंत्र की ये तस्वीर 17 मार्च की है. कर्मचारी अब भी स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं.

जापान में अधिकारियों ने पिछले हफ्ते आए भयंकर भूकंप और सुनामी के बाद कम से कम 15,000 लोगों के मारे जाने की आशंका जताई है.

पुलिस ने अब तक 5,400 से अधिक लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है. साथ ही 9,500 से अधिक लोग अब भी लापता हैं.

उधर क्षतिग्रस्त फ़ुकुशिमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र को 'स्थिर' करने के लिए एक बड़ा अभियान जारी है.

परमाणु संयंत्र के आस-पास विकिरण के बढ़ते प्रभाव के कारण इमरजेंसी सेवाओं के कर्मचारियों ने परमाणु ईंधन की छड़ों को ठंडा करने के लिए पानी का प्रयोग करने की योजनाओं को रोक दिया है.

हेलीकॉप्टरों ने बरसाया पानी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption दूर से ली गई इस धुंधली तस्वीर में आप एक हेलीकॉप्टर को पानी बरसाते हुए देख सकते हैं

लेकिन अब विशेष दमकल ट्रक संयंत्र पर पानी का छिड़काव कर रहे हैं.

सेना के हेलीकॉप्टरों ने तापमान को नियंत्रित करने के लिए कई टन समुद्र का पानी संयंत्र पर बरसाया है.

अधिकारियों ने कहा कि गुरुवार को हेलीकॉप्टरों ने फ़ुकुशिमा के 'रिएक्टर तीन' और 'रिएक्टर चार' पर पानी बरसाया है.

हेलीकॉप्टरों ने सुमद्र के पानी की चार खेप संयंत्र पर बरसाई और उसके बाद विकिरण के ख़तरे को देखते हुए वहां से हट गए.

बुधवार को भी हेलीकॉप्टर इसी ख़तरे की वजह से हटा लिए गए थे.

टोक्यो में बीबीसी संवाददाता क्रिस हॉग के अनुसार सेना के ये हेलीकॉप्टर काफ़ी मात्रा में पानी उठा सकते हैं लेकिन ये जान पाना मुश्किल है कि तेज़ हवाओं के कारण पानी सही जगह पर गिराया जा सका है या नहीं.

वीडियो फ़ुटेज से तो लगता है कि ये कोशिशें अधिक कामयाब नहीं हो रही हैं क्योंकि ज़्यादातर पानी अपने लक्ष्य से बाहर गिरता हुआ दिखाई दे रहा है.

इंजीनियर परमाणु संयंत्र में बिजली बहाल करने करने की कोशिश कर रहे हैं. साथ ही संयंत्र को ठंडा रखने के लिए उसमें नए पॉवर केबल डाले जा रहे हैं.

जापान की समाचार एजेंसी क्योडो का कहना है कि देश में मौजूद छह में से चार परमाणु संयंत्रों में पानी का तापमान और स्तर नहीं मापा जा सका है.

संबंधित समाचार