भारत में जापानी खाद्य पदार्थों की जांच

जापानी लोग इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption जापान में रेडिएशन का ख़तरा बना हुआ है

जापान में परमाणु रेडिएशन फैलने के डर के बाद भारत ने वहां से आयात होने वाले खाद्य पदार्थों का परीक्षण करना शुरु कर दिया है.

अंतरराष्ट्रीय ख़बरों के मुताबिक जापान के पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया, हॉन्ग कॉन्ग, सिंगापुर और फ़िलिपींस ने भी जापान से आने वाले खाद्य पदार्थों को रेडियेशन के लिए जांच करने का फ़ैसला किया है.

दक्षिण कोरिया के अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने खाद्य पदार्थों पर रेडिएशन निरीक्षण की प्रक्रिया तेज़ कर दी है.

भारतीय वाणिज्य मंत्रालय के एक अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि भारत जापान से रोज़मर्रा के इस्तेमाल में आने वाली खाद्य सामग्री आयात नहीं करता है, लेकिन भारत संवर्धित खाद्य पदार्थ, तेल के बीज, पत्ता गोभी और फूल गोभी का आयात जापान से करता है.

इसके अलावा कुछ फल, दूध से बनने वाली चीज़ें और तम्बाकू उत्पाद भारत में जापान से आते हैं.

रेडिएशन का ख़तरा

खाद्य सुरक्षा और मानक ऑथारिटी के चेयरमैन पी आई सुवर्थन ने पीटीआई को बताया, “फ़िलहाल हम स्थिति पर नज़र बनाए हुए हैं, लेकिन अभी तक हमने जापान से खाद्य पदार्थों के आयात पर रोक लगाने का निर्णय नहीं लिया है.”

भारत सरकार ने सीमा शुल्क विभाग को आदेश दिया है कि वो जापान से आने वाली चीज़ों का निरीक्षण करे.

हांगकांग में लोगों ने जापान से आने वाला दूध का पाउडर भारी मात्रा में ख़रीदना शुरु कर दिया है क्योंकि उनका मानना है कि ताज़ा आयातित सामग्री में रेडिएशन का ख़तरा हो सकता है.

उधर जापान में लोगों ने रेडिएशन के ख़तरे से बचने के लिए भारी मात्रा में आयोडीन और आयोडीन पदार्थों ख़रीदना शुरु कर दिया है.

संबंधित समाचार