खाद्य सामग्री में विकिरण के अवशेष

  • 19 मार्च 2011
जापान फूड मार्किट

जापान के फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र वाले इलाक़े में खाद्य पदार्थों में हानिकारक रेडियोधर्मी विकिरण के अंश पाए जाने के बाद सरकार ने उनकी बिक्री पर रोक लगा दी है.

बुधवार को जापान के अधिकारियों ने खाद्य सामग्री का निरीक्षण शुरु किया था.

निरीक्षण में फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र के आस पास के इलाक़े में दूध और पालक में विकिरण का असर पाया गया.

जापान के अधिकारियों ने खाद्य पदार्थों में रेडियोएक्टिव आयोडीन पाए जाने की पुष्टि की है.

अधिकारियों का कहना है कि इन दूषित खाद्य पदार्थों का सेवन सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है.

अंतर्राष्ट्रीय परमाणु विशेषज्ञों का कहना है कि हालांकि विकिरण युक्त आयोडीन का असर केवल आठ दिनों तक रहता है, लेकिन इसके सेवन से थॉइराइड का ख़तरा हो सकता है.

जापानी अधिकारियों ने बताया कि विकिरण युक्त आयोडीन के कुछ अंश राजधानी टोक्यो के नलों के पानी में भी पाए गए हैं.

लेकिन सरकार का कहना है कि टोक्यो के लोगों को घबराने की कोई बात नहीं है क्योंकि आयोडीन के ये अंश सरकारी सुरक्षा मानक के अनुरूप ही हैं.

सफलता के क़रीब

Image caption जापान में अब तक 7,000 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

फुकुशिमा दायची संयंत्र में बिजली की तार को रिएक्टरों से जोड़ने के लिए इंजीनियर लगातार कोशिश कर रहे हैं.

इंजीनियरों ने बिजली के मुख्य तार को दो रिएक्टरों से जोड़ने में सफलता हासिल की है और अब संयंत्र का तापमान नीचे लाने के लिए वे बिजली आपूर्ति बहाल करने की कोशिश कर रहे हैं.

इस बीच अग्निशमन कर्मचारी संयंत्र का तापमान गिराने के लिए उस पर लगातार पानी डाल रहे हैं.

अधिकारियों का कहना है कि संयंत्र के कूलिंग सिस्टम में बिजली आपूर्ति बहाल करने वाले कर्मचारी सफलता पाने के बहुत करीब हैं.

कर्मचारियों को उम्मीद है कि वे छह में से चार रिएक्टरों में जल्द ही विद्युत आपूर्ति बहाल कर पाएंगें.

मरने वालों की संख्या बढ़ी

जापान में पिछले हफ्ते आए भीषण भूकंप और सुनामी के क़हर में अब तक 7,300 से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं और 11,000 से ज़्यादा लापता हैं.

अधिकारियों ने बेघर हुए हज़ारों लोगों के लिए कच्चे घर बनाने शुरु कर दिए हैं.

पीड़ित लोगों को कड़ाके की ठंड का सामना करने के साथ साथ पानी, बिजली और इंधन की कमी की मार भी झेलनी पड़ रही है.

जापान के प्रधानमंत्री नाओतो कान ने शुक्रवार को देश को संबोधित करते हुए कहा कि वे तिनका तिनका जोड़ कर जापान का पुनर्निर्माण करेंगें.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार