भूकंप के आठ दिन बाद जीवित मिला व्यक्ति

  • 19 मार्च 2011
जापान में जीवित व्यक्ति (चित्रः एनएचके वीडियो) इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption जापान में जीवित मिला व्यक्ति सदमे में है और कुछ बोल नहीं पा रहा है

जापान में भूकंप और सुनामी के आठ दिन बाद राहतकर्मियों को एक जीवित व्यक्ति मिला है.

जापानी रेडियो के मुताबिक कतसुहारू मोरिया नाम का यह युवक ध्वंस हो चुके एक मकान की दूसरी मंज़िल से बाहर निकाला गया.

उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है लेकिन वह सदमे में है और कुछ बोल नहीं पा रहा है.

उसे इलाज के लिए क़रीब के एक अस्पताल में ले जाया गया है.

सदमे में है व्यक्ति

एक राहतकर्मी ने समाचार एजेंसी एपी को बताया, "मुझे कंबल में लिपटा एक आदमी मिला. वह बुरी तरह थका हुआ लग रहा था".

इससे पहले समझा जा रहा था कि भारी बर्फ़बारी की वजह से अब किसी के जीवित होने की आशा नहीं है.

भूकंप और उसके बाद सुनामी से कम से कम 7, 200 लोगों की मौत हुई और अब भी 11 हज़ार से ज़्यादा लापता हैं.

इस घटना में एक परमाणु संयंत्र भी तबाह हुआ जिससे विकिरण किरणों के रिसाव का ख़तरा पैदा हो गया है.

जापान में नौ दशमलव की तीव्रता से आए भूकंप के बाद लाखों लोग प्रभावित हुए हैं.

जीवित बचने वाले बहुत से लोग बिना पानी, बिजली, ईंधन और खाने के गुज़ारा कर रहे हैं और कई लाख बेघरबार हो गए हैं.

इस बीच जापान ने फुकुशिमा दाइची परमाणु संयंत्र में दुर्घटना अलर्ट स्तर को चार से बढ़ाकर पांच कर दिया है.

परमाणु दुर्घटना से होने वाले ख़तरे को मापने वाले सात अंक के अंतरराष्ट्रीय पैमाने पर यह चेतावनी अब पांच पर पहुंच गई है.

इस घोषणा के बाद फुकुशिमा में हुई दुर्घटना, 1986 में हुई चर्नोबिल परमाणु दुर्घटना से दो स्तर नीचे है.

जापान में आपात संकट से निपटने में जुटे कर्मचारियों का कहना है कि फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र में स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास काफ़ी धीमा चल रहा है.

परमाणु संयंत्र में मौजूद कर्मचारी लगातार संयंत्र में बिजली बहाल करने की कोशिश में जुटे हुए हैं.

संबंधित समाचार