टोक्यो: पानी में विकिरण का स्तर घटा

टोक्यो में पीने का पानी इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption टोक्यो में पीने के पानी में विकिरण स्तर कम हुआ.

टोक्यो में पीने के पानी में विकिरण की मात्रा में कमी आई है. अब ये पानी एक बार फिर से नन्हें बच्चों के पीने लायक हो गया है.

इससे पहले बुधवार को टोक्यो के गवर्नर शिंतारो इशिहारा ने कहा था कि शहर के नलकों के ज़रिए सप्लाई किए जा रहे पानी में विकिरण की मात्रा बच्चों के लिए सुरक्षित स्तर से दोगुनी हो गई है.

इस चेतावनी के बाद बुधवार को टोक्यो की दुकानों में पीने के पानी की बोतलों में कमी की ख़बरें आने लगी थीं.

उधर जापान के पड़ोसी देशों में भी विकिरण दूषण को लेकर चिंताएं बढ़ती जा रही हैं. अमरीका के बाद ऑस्ट्रेलिया ने भी जापान में विकिरण प्रभावित क्षेत्र से आने खाद्य पदार्थों पर प्रतिबंध लगा दिया है.

इस बीच जापान की नेशनल पुलिस एजेंसी ने बुधवार को कहा कि भूकंप और सुनामी में मरने वालों की आधिकारिक संख्या अब 9,523 हो गई है. इसके अलावा 16,094 लोग अब भी लापता हैं.

लेकिन पुलिस अधिकारियों को आशंका है कि मरने वालों की अंतिम संख्या 18 हज़ार से अधिक हो सकती है.

फ़ुकुशिमा में काम फिर शुरू

जापान के फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र में रिएक्टर 3 के तापमान को नियंत्रित करने के लिए फिर से काम शुरू हो गया है.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बुधवार को काला धुंआ उठने के बाद काम रोकना पडा़ था. गुरुवार को एक बार फिर से तापमान को नियंत्रित करने की कोशिश शुरू हुई.

बुधवार दोपहर को इस रिएक्टर से काला धुंआ निकलने के बाद संयंत्र को चलाने वाली कंपनी टोक्यो इलैक्ट्रिक पॉवर ने काम बंद कर दिया था.

फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र 11 मार्च को जापान के उत्तर-पश्चिम में आए एक बड़े भूकंप और उसके बाद उठी जानलेवा सुनामी लहरों के कारण क्षतिग्रस्त हो गया था.

इस संयंत्र से हो रहे विकिरण रिसाव से टोक्यो का पानी दूषित हो गया है और साथ ही फ़ुकुशिमा के आस-पास खाद्य पदार्थों में भी विकिरण के अंश पाए गए हैं.

जापान के विज्ञान मंत्रालय ने फ़ुकुशिमा संयंत्र के आस-पास मिट्टी,पानी और हवा में रेडियोएक्टिव आयोडीन के लिए परीक्षण शुरू कर दिए हैं.

विज्ञान मंत्रालय ये जानने की कोशिश रहा है कि खेती और मत्स्य उद्योग पर विकिरण रिसाव का कितना असर पड़ सकता है.

संबंधित समाचार