इतिहास के पन्नों से: सऊदी बादशाह की हत्या, पाकिस्तान की विश्व कप में जीत

अगर इतिहास के पन्नों में झांके तो 25 मार्च के दिन की कुछ प्रमुख घटनाएँ हैं - सऊदी बादशाह की हत्या, अमरीकी बहिष्कार के बावजूद 'ब्रिटिश ओलंपिक्स एसोसिएशन' का मॉस्को ओलंपिक्स खेलों में हिस्सा लेने का फ़ैसला और क्रिकेट विश्व कप के फ़ाइनल में पाकिस्तान की इंग्लैंड पर विजय.

1992: पाकिस्तान ने जीता क्रिकेट विश्व कप

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption साल 1992 में 25 मार्च को पाकिस्तान ने क्रिकेट विश्व कप जीता.

ऑस्ट्रेलिया में क्रिकेट विश्व कप के फ़ाइनल में पाकिस्तान ने इंग्लैंड को 22 रनों से हराया.

ये पाकिस्तान की क्रिकेट विश्व कप में पहली जीत थी. इस मैच में वसीम अकरम ने 18 गेंदों पर 33 रन बनाए और बाद में तीन विकेट भी झटके.

अपने प्रदर्शन के लिए अकरम को 'मैन ऑफ़ द मैच' का ख़िताब दिया गया.

पाकिस्तान ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग की और 249 रन बनाए. जवाब में इंग्लैंड की टीम 227 रन बनाकर ऑल आउट हो गई.

1975: सऊदी अरब के बादशाह फ़ैसल की हत्या

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बादशाह फ़ैसल को उनके भतीजे ने गोली मारी थी.

बादशाह फ़ैसल की उनके भतीजे फ़ैसल बिन मुसेद ने रियाद में गोली मार कर हत्या की.

फ़ैसल अबु मुसेद ने बादशाह पर नज़दीक से तीन गोलियां दाग़ीं. घायल बादशाह को अस्पताल ले जाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया.

इसके बाद युवराज फ़ैसल बिन मुसेद को राज हत्या का दोषी पाया गया और जून 1975 में रियाद के प्रमुख चौराहे पर इस्लामी क़ानून के तहत उनका सर कलम कर दिया गया.

1980: ब्रिटेन ने मॉस्को ओलंपिक्स में हिस्सा लेने का फ़ैसला किया

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption मॉस्को खेलों का शुभांकर था 'मिशा भालू'

ब्रिटिश ओलंपिक्स एसोसिएशन ने बहुमत से सरकार की राय के विपरीत मॉस्को ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेने का निर्णय लिया.

खेल संघ का ये फ़ैसला सरकार के लिए झटका था.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के कार्यालय ने ब्रिटिश ओलंपिक्स संघ के फ़ैसले पर गंभीर खेद व्यक्त किया.

सोवियत संघ के अफ़गानिस्तान पर हमले को विरोध में सरकार ने खेल संघ पर मॉस्को खेलों में हिस्सा ना लेने के लिए दवाब बना रखा था.

अमरीका की अगुवाई में कई देशों ने मॉस्को खेलों का बहिष्कार किया था.

संबंधित समाचार