यमन और सीरिया में राजनीतिक पहल

यमन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption यमन में शुक्रवार को भी प्रर्दशन हुए थे और राष्ट्रपति सालेह समर्थकों के बीच सत्ता छोड़ने की बात कही थी.

राजनीतिक सुधारों की मांग को लेकर पिछले काफी दिनों से लगातार जारी आंदोलन, जिसका सिलसिला यमन और सीरिया में शुक्रवार को भी चला, वहां की हुकुमतों ने इस दिशा में कुछ कदम उठाए हैं.

यमन में सत्ता हस्तांतरण को लेकर बातचीत का सिलसिला तक़रीबन अपने निष्कर्ष पर है. जबकि सिरिया में बड़ी तादाद में राजनीतिक क़ैदियों की रिहाई हुई हैं.

यमन

यमन में विदेश मंत्री अबुबक्र अल क़िरबी ने कहा है कि सत्ता हस्तांतरण को लेकर सरकार और विद्रोहियों के बीच जारी बातचीत अपने अंतिम चरण में है.

अल क़िरबी ने कहा है कि अगर विरोधी बातचीत को लेकर अपनी गंभीरता बरक़रार रखते हैं तो राष्ट्रपति अली अब्दुल्ला सालेह सभी संभावनाओं पर विचार करने को तैयार हैं.

यमन में मौजूद बीबीसी संवाददाता का कहना है कि ये पहली बार है कि पहली बार हुकुमत में मौजूद किसी व्यक्ति ने इस बात की पुष्टि की है कि राष्ट्रपति सालेह सत्ता छोड़ने की शर्तों पर बातचीत कर रहे हैं.

सालेह ने कहा है कि वो इस साल के अंत तक गद्दी छोड़ने को तैयार हैं लेकिन विरोधी इसकी मांग जल्द से जल्द कर रहे हैं.

शुक्रवार को यमन की राजधानी साना में हज़ारों लोगों ने सरकार के समर्थन और विरोध में हिस्सा लिया था.

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सीरिया में हुए प्रर्दशनों के दौरान कम से कम पचास लोग मारे गए हैं.

सालेह ने अपने समर्थकों की एक रैली में कहा था कि वो 'सत्ता हस्तांतरण' के लिए तैयार हैं लेकिन वो सत्ता 'सुरक्षित हाथों' में ही सौपेंगे.

सीरिया

इधर ख़बर है कि सीरिया में बड़ी संख्या में राजनीतिक क़ैदी रिहा किए गए हैं.

हालांकि रिहा किए गए क़ैदियों की तादाद को लेकर अभी तक स्थिति साफ़ नहीं है.

लंदन स्थित सीरिया के एक मानवधिकार संस्था ने कहा है ये रिहाई सैदनाया जेल से हुई हैं.

सैदनाया दमिश्क़ के पास स्थित है.

इधर शुक्रवार को विरोध रैली के दौरान डेरा शहर में मारे गए लोगों के जनाज़े में लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए और उन्होनें और अधिक राजनीतिक आजादी के नारे लगाए.

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा है कि पिछले हफ्ते भर से शुरू हुए विरोधों के दौरान अबतक कम से कम 50 लोग मारे गए है

संबंधित समाचार