यमन में धमाका, 78 मारे गए

यमन विद्रोही इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption यमन में कई हफ़्तों से राजनीतिक खलबली मची हुई है

यमन में अधिकारियों का कहना है कि एक असलहा फ़ैक्ट्री में विस्फोट हुआ है. इस घटना में 78 लोग मारे गए हैं और कई अन्य घायल हो गए हैं.

ये धमाका दक्षिणी यमन के ज़ार शहर में हुआ और इसकी गूंज क़रीब 15 किलोमीटर तक सुनाई दी.

रविवार को सरकार विरोधी बंदूकधारियों ने इस असलहा प्लांट पर क़ब्ज़ा कर लिया था और लोग इस फ़ैक्ट्री को लूटने में लगे हुए थे जब धमाका हुआ.

अधिकारियों का कहना है कि मरने वालों की संख्या में वृद्धि हो सकती है. अस्पताल में घायलों की संख्या बढ़ रही है.

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक खनफ़ार नाम के इलाक़े में स्थित इस असलहा फ़ैक्ट्री में कालाश्निकोव राइफ़ल के साथ अन्य युद्ध सामग्री बनाई जाती है.

रविवार को ऐसी ख़बरें आ रही थी कि इस्लामी चरंपंथियों ने अब्यान प्रांत में स्थित जार शहर और उसके आस पास वाले इलाक़ों पर क़ब्ज़ा कर लिया है.

बिगड़ते हालात

यमन में कई हफ़्तों से राजनीतिक खलबली मची हुई है और सुरक्षा इंतज़ामों के हालात बिगड़ते नज़र आ रहे हैं.

यमन में 40 प्रतिशत लोग बेरोज़गार हैं और बढ़ती महंगाई के चलते कुपोषण के मामले बढ़ रहे हैं.

साथ ही सुरक्षा के नज़रिए से यमन के लिए चिंताएं बढ़ती नज़र आ रही हैं. जहां दक्षिणी यमन में अलगाववादी संघर्ष जारी है, वहीं उत्तरी यमन में शिया हऊदी विद्रोही सरकार विरोधी अभियान चला रहे हैं.

चिंता जताई जा रही है कि बढ़ती बेरोज़गारी और उग्रवाद के बीच यमन अल-क़ायदा का गढ़ बनता जा रहा है.

हाल ही में विदेश मंत्री अबुबक्र अल क़िरबी ने कहा है कि सत्ता हस्तांतरण को लेकर सरकार और विद्रोहियों के बीच जारी बातचीत अपने अंतिम चरण में है.

शुक्रवार को यमन की राजधानी साना में हज़ारों लोगों ने अलग अलग रैलियों में सरकार के समर्थन और विरोध में हिस्सा लिया था.

सालेह ने अपने समर्थकों की एक रैली में कहा था कि वो 'सत्ता हस्तांतरण' के लिए तैयार हैं लेकिन वो सत्ता 'सुरक्षित हाथों' में ही सौपेंगे.

संबंधित समाचार