जूलिया गिलार्ड का कंप्यूटर हैक हुआ

  • 30 मार्च 2011
कम्प्यूटर हैक
Image caption हाल ही में अमरीका ने कहा था कि चीन का साइबर वॉर क्षमता ख़तरनाक है.

ऑस्ट्रेलिया के अख़बार सिडनी डेली टेलीग्राफ के मुताबिक प्रधानमंत्री जूलिया गिलार्ड का कम्पयूटर हैक हो गया है.

साथ ही दो वरिष्ठ मंत्रियों का कम्पयूटर हैक होने की भी ख़बर है. अख़बार के मुताबिक़ इस सुरक्षा उल्लंघन की जानकारी आस्ट्रेलियाई सरकार को अमरीकी खुफ़िया विभाग ने दी.

ऐसी ख़बरे हैं कि क़रीब 10 मंत्रियों के हज़ारों ई-मेल खोल कर पढ़े गए है. हालांकि आस्ट्रेलिया के अधिकारियों ने इन ख़बरों को न तो प्रमाणित किया है और न ही इसका खंडन किया है.

इस साइबर अटैक के निशाने पर आस्ट्रेलिया के संसदीय भवन का ई-मेल नेटवर्क था, जो कि सांसदों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे नेटवर्क के मुक़ाबले कमज़ोर है.

जिन कम्प्यूटरों की सुरक्षा प्रणाली को कथित तौर पर अटैक किया गया है, उसमें विदेश मंत्री केविन रड और रक्षा मंत्री स्टीफन स्मिथ के कम्प्यूटर भी शामिल हैं.

चीन पर शक़

ख़बरों के मुताबिक हैक करने वालों का मकसद आस्ट्रेलिया के ख़नन उत्पाद उद्योग के बारे में जानकारी जुटाना था.

सिडनी डेली टेलीग्राफ अख़बार ने चार सरकारी अधिकारियों के हवाले से चीनी खुफ़िया एजेंसी पर शक़ जताया है. हालांकि अख़बार ने उन अधिकारियों के नाम नहीं बताए हैं.

लेकिन आस्ट्रेलिया की सरकार का कहना है कि वो खुफ़िया मामलों पर टिप्पणी नहीं करेगी.

अटॉर्नी जनरल रॉबर्ट मैकलेलेन्ड ने कहा कि आस्ट्रेलिया के अधिकारी साइबर सुरक्षा को पुख़्ता बनाने के लिए लगातार कार्यरत हैं.

हाल ही में अमरीका ने कहा था कि चीन की साइबर वॉर क्षमता ख़तरनाक है, लेकिन चीन हैकिंग के आरोपों का खंडन करता रहा है.

संबंधित समाचार