बाली 'मास्टरमाइंड' गिरफ़्तार

Image caption बाली बम धमाके में 200 से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

अधिकारियों का कहना है कि बाली बम धमाके के एक कथित मास्टरमाइंड को पाकिस्तान में गिरफ़्तार कर लिया गया है.

साल 2002 में हुए इस धमाके में 200 से ज़्यादा लोग मारे गए थे.

अल क़ायदा के वरिष्ठ सदस्यों में गिने जानेवाले उमर पातेक के बारे में ऑस्ट्रेलिया और इंडोनेशिया के अधिकारियों का कहना है कि उनसे काफ़ी महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है.

पाकिस्तान से फ़िलहाल इस पर कोई बयान नहीं आया है लेकिन ऑस्ट्रेलिया के विदेश मंत्री केविन रड ने इस गिरफ़्तारी की पुष्टि की है.

रड का कहना था, “ये गिरफ़्तारी आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई में एक बहुत बड़ा कदम है.”

इंडोनेशिया से पुलिस और आतंकवाद विरोधी दस्ते के अधिकारियों के एक दल को पाकिस्तान भेजा जा रहा है.

इंडोनेशिया के सुरक्षा अधिकारी कई सालों से पातेक की तलाश कर रहे थे.

दक्षिणपूर्व एशिया में वो वांटेड सूची के सबसे बड़े चरमपंथियों में से हैं और उनपर अमरीकी सरकार के एक कार्यक्रम के तहत दस लाख डॉलर का इनाम घोषित था.

इस बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिल पाई है कि पातेक पाकिस्तान में क्या कर रहे थे.

चालीस साल के पातेक अरबी मूल के हैं और दुनिया भर की ख़ुफ़िया एजेंसियां उनके नाम से वाकिफ़ हैं.

माना जाता है कि बाली के नाइटक्लबों में हुए बम धमाकों के वो सहायक फ़ील्ड कमांडर थे. इस धमाके में 202 लोग मारे गए थे.

जकार्ता में 2003 और 2009 में हुए दो आत्मघाती हमलों के पीछे भी उनका हाथ माना जाता है.

संबंधित समाचार