गद्दाफ़ी से पद छोड़ने की मांग

कॉन्टेक्ट ग्रुप की बैठक इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption दोहा में कॉन्टेक्ट ग्रुप की बैठक हुई

लीबिया पर गठित कई देशों के एक ग्रुप ने कहा है कि कर्नल गद्दाफ़ी को पद छोड़ देना चाहिए. इस 'कॉन्टेक्ट ग्रुप' में इस बात पर सहमति हो गई है कि विद्रोहियों को वित्तीय सहायता के लिए कोई व्यवस्था की जाए.

क़तर में इस ग्रुप की बैठक के बाद एक बयान जारी किया गया है. इस बयान में कहा गया है कि सहायता का इस्तेमाल अल्पकालित वित्तीय ज़रूरतों के लिए किया जाएगा.

क़तर में यह बयान क़तर के राजकुमार और प्रधानमंत्री तमीम बिन हमाद बिन ख़लीफ़ा अल थानी ने पढ़कर सुनाया.

इस बयान में इसका कोई ज़िक्र नहीं है कि कहीं ये पैसा हथियारों की ख़रीद में तो नहीं इस्तेमाल हो सकता है.

मांग

बयान में बार-बार कहा गया है कि कर्नल गद्दाफ़ी के पद छोड़ दें, क्योंकि अब उन्होंने पद पर बने रहने का अधिकार खो दिया है.

कॉन्टेक्ट ग्रुप में शामिल देशों ने ये भी कहा है कि वे लीबियाई नागरिकों की सुरक्षा के लिए सभी ज़रूरी क़दम उठाएँगे.

इससे पहले ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने अपील की थी कि लीबिया में कर्नल गद्दाफ़ी की सेना पर हवाई हमले में अन्य देश भी सहयोग दें.

इस कॉन्टेक्ट ग्रुप का गठन 29 मार्च को लंदन में हुआ था. इस ग्रुप में यूरोप के कई देश, अमरीका, मध्य पूर्व में अमरीका के सहयोगी देश और कई अंतरराष्ट्रीय संगठन शामिल हैं.

दोहा में हुई बैठक के बाद जारी बयान में लीबिया के नागरिकों पर हमले तुरंत रोकने की भी मांग की गई है.

संबंधित समाचार