'7300 बच्चे मृत पैदा होते हैं'

नवजात शिशु इमेज कॉपीरइट Reuters (audio)
Image caption भारत में हर 1000 पैदा होने वाले बच्चों में 15 से 24 बच्चे मरे हुए पैदा होते हैं.

प्रतिष्ठित मेडिकल जर्नल लैंसेट ने अपनी ताज़ा रिपोर्ट में कहा है कि विश्व में हर दिन 7300 बच्चे मृत पैदा होते हैं.

नाइजीरिया में हर 1000 नवजात शिशुओं में से 42 बच्चे मरे हुए पैदा होते हैं जबकि पाकिस्तान में ये दर 46 है. फ़िनलैंड और सिंगापुर में ये दर सबसे कम पाया गया है.

इन मृत बच्चों में से 66 प्रतिशत दस देशों से हैं जिनमें भारत भी शामिल है.

इस सूची में भारत के अलावा पाकिस्तान, नाइजीरिया, चीन, बांग्लादेश, कॉंगो, इथियोपिया, इंडोनेशिया, तनज़ानिया और अफ़गानिस्तान जैसे देश शामिल हैं.

भारत में हर 1000 पैदा होने वाले बच्चों में 15 से 24 बच्चे मरे हुए पैदा होते हैं.

लैंसेट की रिपोर्ट के मुताबिक़ 98 प्रतिशत मरे हुए बच्चे कम विकसित देशों में पैदा होते हैं, लेकिन विकसित देश भी इस समस्या से अछूते नहीं है. विकसित देशों में हर 320 में से 1 बच्चा मृत पैदा होता है.

रिपोर्ट में लिखा है कि अफ्रीका की औरतों में मृत बच्चे पैदा होने का ख़तरा विकसित देश की महिलाओं के मुक़ाबले 24 गुना ज़्यादा होता है.

'दर में आई कमी'

हांलाकि रिपोर्ट के अनुसार विश्व भर में मृत बच्चे पैदा होने के दर में 1.1 प्रतिशत कमी आई है. जहां 1995 में ये संख्या 30 लाख थी, वहीं 2009 में ये संख्या गिर कर 20 लाख 60 हज़ार दर्ज की गई है.

1995 से 2009 के बीच चीन, भारत और बांग्लादेश में मृत बच्चे पैदा होने के दर में कमी देखने को मिली है, जबकि मैक्सिको में ये दर दस सालों में आधा हो गया है.

लैंसेट के मुताबिक़ विकसित देशों में से सबसे ज़्यादा मरे हुए बच्चे ब्रिटेन में पैदा होते हैं.

पत्रिका में इस समस्या के 5 कारण बताए गए हैं. ये कारण हैं – प्रसव संबंधित जटिलताएं, गर्भावस्था के दौरान होने वाला इंफ़ेक्शन, मांओं को होने वाली बीमारियां जैसे कि डायबिटीज़ और उच्च रक्तचाप, भ्रूण का विकास रुक जाना और जन्म संबंधित अनियमितताएं.

रिपोर्ट में लिखा है कि आधे से ज़्यादा बच्चों की मौत प्रसव के दौरान होती हैं और इनका सीधे तौर से संबंध चिकित्सक कुशलता के अभाव से होता है.

ग्रामीण इलाक़ों में दो-तिहाई बच्चे मृत पैदा होते हैं क्योंकि वहां ‘दाईयों’ में चिकित्सक कुशलता का भारी अभाव देखने को मिलता है और कभी-कभी तो डिलिवरी के लिए चिकित्सक भी उप्लब्ध नहीं होते.

संबंधित समाचार