इतिहास के पन्नों से

15 अप्रैल 1912 को टाइटैनिक डूबा

टाइटैनिक इमेज कॉपीरइट AP

दुनिया का सबसे बड़ा भाप से चलने वाला यात्री जहाज़ टाइटैनिक साउथम्पटन (इंग्लैंड) से अपनी पहली यात्रा पर 10 अप्रैल, 1912 को न्यूयॉर्क शहर के लिए रवाना हुआ.

चार दिन की यात्रा के बाद रात के अंधेरे में टाइटैनिक समुद्र में तैरते विशाल हिमखंड से टकराया. टकराने के महज़ दो घंटे 40 मिनट बाद 15 अप्रैल 1912 को ये डूब गया.

टाइटैनिक पर 2,223 यात्री सवार थे. जिसमें डेढ़ हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई. इस भीषण हादसे में सिर्फ़ 705 लोगों की जान बचाई जा सकी थी.

जब जहाज़ डूबा उस वक्त, जहाज़ पर केवल 1,178 लोगों के लिए जीवनरक्षक नौकाऐं थीं. टाइटैनिक को उस समय के सबसे अनुभवी इंजीनियरों ने डिज़ाइन किया था और इसके निर्माण में उस समय की सबसे उन्नत टेक्नोलोजी का इस्तेमाल किया गया था.

कई लोगो के लिए एक बड़ा आघात था कि व्यापक सुरक्षा और सुविधाओं के बावजूद, टाइटैनिक डूब गया.

इतिहास के पन्नों पर यह हादसा सर्वाधिक भीषण नौवहन हादसे के तौर पर दर्ज है.

1989 ब्रिटेन के फुटबॉल इतिहास में भयंकर दुर्घटना

15 अप्रैल 1989 को ब्रिटेन के फुटबॉल इतिहास में भयंकर दुर्घटना घटी.

शेफील्ड शहर के हिल्सबॉरो स्टेडियम में नॉटिंघम फॉरेस्ट और लिवरपूल के बीच एफ. ए. कप के सेमीफाइनल मैंच के दौरान मची भगदड़ में कम से कम 93 फुटबॉल प्रेमियों की मौत हो गई.

हादसा तब हुआ जब , लिवरपूल के समर्थकों के दबाव के चलते पहले से ही खचाखच भरे स्टेडियम के पिछले गेट को उनके अंदर आने के लिए खोल दिया गया.

दोपहर तीन बजे जब मैच शुरु हुआ उस समय दो हज़ार से ज़्यादा लिवरपूल समर्थक स्टेडियम के बाहर मौजूद थे.

1865 राष्ट्रपति अब्राहिम लिंकन का निधन, एंड्रयू जॉनसन को शपथ

आज ही के दिन यानि 15 अप्रैल 1865 को अमरीका के राष्ट्रपति अब्राहिम लिंकन का सुबह सात बजकर 22 मिनट पर निधन हो गया.

उन्हें 14 अप्रैल को ‘जॉन वाइक्स बूथ’ ने नाटक देखते वक्त सिर पर गोली मार दी थी.

लिंकन की हत्या के बाद तत्कालीन उपराष्ट्रपति ‘एंड्रयू जॉनसन’ को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई गई.

संबंधित समाचार