होस्नी मुबारक की पार्टी भंग

एनडीपी
Image caption मुबारक के 30 साल के शासनकाल के दौरान आपातकाल जैसी स्थिति थी

मिस्र की अदालत ने अपदस्थ राष्ट्रपति होस्नी मुबारक की पार्टी को भंग करने का आदेश दिया है.

उच्चतम प्रशासनिक अदालत के इस आदेश के बाद होस्नी मुबारक की पार्टी नेशनल डेमोक्रेटिक पार्टी (एनडीपी) की सपंत्तियों को ज़ब्त कर लिया जाएगा और उसका नियंत्रण सरकार को सौंप दिया जाएगा.

हालांकि अभी तक अदालत के फैसले के बारे में पूरी जानकारी नहीं मिल पाई है.

मुबारक इन दिनों तबीयत ख़राब होने की वज़ह से अस्पताल में भर्ती हैं और वहां हिरासत में हैं.

उनसे भ्रष्टाचार के आरोप के मामले में पूछताछ होनी है.

होस्नी मुबारक के अलावा उनके दो बेटों और उनकी सरकार में शामिल रहे कई मंत्री और अधिकारी भी ऐसी ही जांच का सामना कर रहे है.

मिस्र में लोगों ने होस्नी मुबारक के शासन के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन किए थे जिसके बाद मुबारक को 30 साल सत्ता में रहने के बाद पद से हटना पड़ा था.

मिस्र में इन प्रदर्शनकारियों की ये मुख्य मांग थी कि होस्नी मुबारक की पार्टी को भंग किया जाए.

विरोध प्रदर्शनों के दौरान पार्टी के दफ़्तरों को भी निशाना बनाया गया था.

एनडीपी का गठन 1978 में अनवर सादात ने किया था जो मुबारक से पहले राष्ट्रपति बने थे. एनडीपी अपने गठन के बाद से ही वहां की राजनीति में अपना वर्चस्व बनाए हुए थी.

संपत्ति सील

मुबारक अभी भी अस्पताल में हैं और उनकी हालत अस्थिर बताई जा रही है. उन्हें हृदय की बीमारी से संबंधित दिक्कतें आ रही हैं.

मुबारक को हाल ही में 15 दिन की हिरासत में लिए जाने का आदेश दिया गया था.

उन्हें और उनके बेटों को देश के बाहर जाने पर पांबदी लगा दी गई है और उनकी सपंत्तियों को सील कर दिया गया है.

रविवार को पहले से रिकॉर्ड किए गए एक मुबारक के ओडियों संदेश को जारी किया गया था. इस संदेश में कहा गया है कि वह स्वंय और अपने बेटों पर लगे आरोपों को हटाने के लिए कोशिश करेंगे.

संबंधित समाचार