क्यूबा: घर खरीदने पर लगी रोक हटी

  • 19 अप्रैल 2011
राउल कास्त्रो
Image caption कम्युनिस्ट पार्टी के महाधिवेशन का मकसद साम्यवादी व्यवस्था में नई जान फूंकना है.

क्यूबा में 1959 में हुई कम्युनिस्ट क्रांति के बाद निजी संपत्ति खरीदने पर लगी रोक हटा दी गई है.

क्यूबा के नागरिक अब तक सिर्फ अपनी पैतृक संपत्ति के मालिक ही हो सकते थे.

पिछले 50 साल से घर खरीदने पर लगी रोक के कारण घर या तो माता-पिता से बच्चों को हस्तांतरित होते थे या फिर उन्हें आपस में बदला जा सकता था. हालांकि इस अदल-बदल की प्रशासनिक प्रक्रिया बेहद जटिल थी.

यह घोषणा, पिछले 14 सालों में पहली बार हो रहे क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी के महाधिवेशन के दौरान की गई. महाधिवेशन का मकसद साम्यवादी व्यवस्था में नई जान फूंकना है.

व्यवस्था में बदलाव

फिलहाल इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है कि घर इत्यादि खरीदने-बेचने के लिए किस तरह की योजना बनाई जा रही है. हालांकि क्यूबा के राष्ट्रपति राउल कास्त्रो ने चेतावनी दी कि इस छूट के चलते संपत्ति एकत्रित किए जाने जैसी गतिविधियों पर कड़ी नज़र रखी जाएगी.

इससे पहले महाधिवेशन के संबोधन भाषण में राष्ट्रपति राउल कास्त्रो ने कहा था कि राष्ट्रपति सहित किसी भी राजनीतिक पद पर कोई भी व्यक्ति अब दो कार्यकाल यानि दस साल से अधिक नहीं रह सकेगा.

उन्होंने कहा कि पार्टी को ताज़ा नेतृत्व की ज़रूरत है और उसे अपने प्रति आलोचनातमक रवैया अपनाना होगा.

क्यूबा की साम्यवादी व्यवस्था के लिए इस तरह के फेरबदल नई बात हैं.

इस बीच 1959 में हुई क्यूबा की क्रांति का नेतृत्व करने वाले फीडल कास्त्रो ने सरकारी मीडिया में छपे अपने एक लेख में कहा है कि वो व्यवस्था में हो रहे इन बदलावों से पूरी तरह सहमत हैं.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार