सैन्य दल भेजने की घोषणा से लीबिया नाराज़

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption लीबिया में विद्रोहियों और गद्दाफ़ी के सैनिकों के बीच संघर्ष जारी है

लीबिया ने ब्रिटेन की इस घोषणा पर कड़ी आपत्ति जताई है कि वो बेनगाज़ी में विद्रोहियों को सलाह देने के लिए अपने सेना अधिकारियों का दल भेज रहा है.

लीबियाई विदेश मंत्री अबदेलाती अल औबेदी ने बीबीसी से बातचीत में कहा कि इस क़दम से शांति वार्ता की किसी भी कोशिश को नुकसान पहुँचेगा और साथ ही टकराव की स्थिति बनी रहेगी.

लीबिया के उप विदेश मंत्री का कहना है कि इसे भड़काने वाला क़दम समझा जाएगा और ये अधिकारी निशाने पर आ जाएँगे.

दरअसल ब्रिटेन ने पूर्वी लीबिया में विद्रोहियों के गढ़ बेनगाज़ी में अपने सैन्य अधिकारियों का एक दल भेजने का फ़ैसला किया है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने कहा है कि ये दल विद्रोहियों को ट्रेनिंग और हथियार नहीं देगा बल्कि उनके सैन्य संगठन को मज़बूत करने के लिए सलाह देगा.

इसके अलावा ये ब्रितानी दल विद्रोहियों के साथ मिलकर दूरसंचार और लॉजिस्टिक्स में सुधार लाने में मदद करेगा.

ब्रिटेन ने कहा है कि इस सैन्य दल की नियुक्ति संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के प्रावधानों के मुताबिक है. लेकिन कुछ टीकाकार इसे लीबिया में ब्रिटेन के बढ़ते सैन्य अभियान के तौर पर देख रहे हैं.

फ़्रांस के विदेश ने इस बात का विरोध किया है कि लीबिया में ज़मीनी स्तर पर गठबंधन सेना के सैनिकों को भेजा जाए.

संबंधित समाचार