'अर्थ डे' की शुरुआत, लेनिन का जन्म

  • 22 अप्रैल 2011
इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption भारत में अर्थ डे के मौके पर एक आयोजन में हिस्सा लेने के लिए जुटे कुछ स्कूली बच्चे.

इतिहास में आज के दिन, 22 अप्रैल को घटी कुछ प्रमुख घटनाओं में शामिल हैं पृथ्वी दिवस यानी 'अर्थ डे' की शुरुआत और रुस के मार्क्सवादी विचारक व्लादीमीर लेनिन का जन्म.

पृथ्वी पर मौजूद पेड़-पौधों और जीव-जन्तुओं को बचाने और दुनियाभर में पर्यावरण के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लक्ष्य के साथ 22 अप्रैल 1970 को पहली बार अमरीका में 'अर्थ डे' मनाया गया.

इस दिन को मनाने का मकसद था राजनीतिक स्तर पर पर्यावरण संरक्षण संबंधी नीतियों को अमल में लाने के लिए दबाव बनाना.

22 अप्रैल 1990 में 'अर्थ डे' के बीसवें जन्मदिन पर 141 देशों में दो करोड़ से ज़्यादा लोगों ने हिस्सा लिया था.

तब से आज तक हर साल इस दिन दुनियाभर में पर्यावरण प्रेमी और सरकारें धरती को बचाने की प्रतिबद्धता दोहराते हैं और एकजुट होते हैं.

22 अप्रैल 1870: व्लादीमीर लेनिन का जन्म

इमेज कॉपीरइट ghetty
Image caption 1924 में लंबी बीमारी के बाद हृदयाघात से लेनिन की मृत्यु हो गई.

22 अप्रैल को रुस के मार्क्सवादी विचारक व्लादीमीर लेनिन का जन्मदिवस भी है.

साल 1870 में जन्मे व्लादीमीर लेनिन ने मार्क्सवाद के आधार पर रुसी कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना की और 1917 में हुई रुसी क्रांति का नेतृत्व किया.

मार्क्सवाद से प्रेरित लेनिन ने समाज और दर्शन शास्त्र पर अपने विचारों से रुस ही नहीं पूरी दुनिया को प्रभावित किया और उनकी यह विचारधारा लेनिनवाद के नाम से जानी गई.

लेनिन के नेतृत्व में 1917 में शुरु हुई रुसी क्रांति के बाद 1922 में सोवियत संघ की स्थापना हुई.

लंबी बीमारी के बाद हृदयाघात से लेनिन की मृत्यु 1924 में हो गई.

22 अप्रैल 2000: छह वर्षीय इलियान गोंज़ालेज़ की रिहाई

22 अप्रैल 2000 को क्यूबा के एक छह वर्षीय बच्चे के संरक्षण को लेकर चल रही रस्साकशी खत्म हुई.

इलियान गोंज़ालेज़ नामक यह बच्चा अपनी मां के साथ ग़ैर क़ानूनी रुप से अमरीका में प्रवेश कर रहे एक जहाज़ पर सवार था.

जहाज़ डूबने पर वह अपनी मां से बिछड़ गया और इसके बाद शुरु हुई इस बच्चे का संरक्षण हासिल करने की एक लंबी लड़ाई. इसमें एक तरफ थे क्यूबा में रहने वाले बच्चे के पिता और दूसरी ओर थे मायामी में रहने वाले उसकी मां के परिजन.

क्यूबा की ओर से बच्चे की रिहाई के लिए अमरीका पर कड़ा दबाव बनाए जाने पर आखिरकार अमरीका की संघीय पुलिस ने बच्चे को छुड़ाने की कार्रवाई की.

पच्चीस पुलिसकर्मियों का दल जिस वक्त जबरन परिजनों के घर में दाख़िल हुआ उस वक्त यह बच्चा एक अलमारी में छिपा था.

संबंधित समाचार