एयर इंडिया को भारी नुक़सान, हड़ताल जारी

  • 29 अप्रैल 2011
एयर इंडिया
Image caption आम तौर पर एयर इंडिया के 320 विमान रोज़ उड़ान भरते हैं

दिल्ली हाई कोर्ट ने उस आदेश पर स्टे जारी करने से इनकार कर दिया है जिसके तहत एयर इंडिया मैनेजमैंट ने इंडियन कमर्शियल पायलट एसोसिएशन यानी आईसीपीए की मान्यता रद्द कर दी थी.

हालांकि कोर्ट ने कहा कि इस संगठन की मान्यता रद्द कर देने से मैनेजमेंट और हड़ताल कर रहे पायलटों के बीच चल रही बातचीत पर कोई असर नहीं पड़ेगा.

दरअसल हड़ताल पर जाने वाले पायलट इंडियन कमर्शियल पायलट्स एसोसिएशन (आईसीपीए) का हिस्सा हैं.

आईसीपीए की मांग ठुकराते हुए जस्टिस एस मुरलीधर ने एयर इंडिया लिमिटेड को एक नोटिस जारी किया और पायलटों की मांग पर 16 जुलाई तक जवाब देने को कहा है.

हड़ताल पर गए पायलट कैप्टन ढींगरा ने कहा, “अगर सरकार और एयर इंडिया मैनेजमैंट हमारी मांगे मान लेते हैं, तो हम काम पर जाने को तैयार हैं. हम चाहते हैं कि सरकार हमें एक समय सीमा दे जिसके भीतर वो हमारी मांगों को पूरा करे. ऐसी अफ़वाहें क्यों उड़ाई जा रही हैं कि एयर इंडिया पर ताला लगने वाला है? ऐसा क्यों है कि वे एयरलाइन को बंद करने को तो तैयार हैं, लेकिन मैनेजमैंट में हो रहे भ्रष्टाचार को संबोधित करने को तैयार नहीं हैं? आख़िर वे हमारी मांगों पर विचार करने को तैयार क्यों नहीं हैं?”

गत 26 अप्रैल को लगभग 800 पायलट अपनी विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए थे.

वर्ष 2007 में इंडियन एयरलाइंस का एयर इंडिया के साथ हुए विलय से पहले ये पायलट इंडियन एयरलाइंस के कर्मचारी थे.

हड़ताल पर जाने वाले पायलटों का आरोप है कि उन्हें एयर इंडिया के कर्मचारियों से कम तनख़्वाह दी जा रही है.

नुक़सान

हड़ताल के तीसरे दिन एयर इंडिया की केवल 39 उड़ानें ही कार्यरत हैं, जबकि आमतौर पर इस एयरलाइन के 320 विमान रोज़ उड़ान भरते हैं.

एयर इंडिया के प्रवक्ता के मुताबिक़ हड़ताल के कारण उन्हें हर दिन चार करोड़ रुपए का नुक़सान हो रहा है.

लेकिन सूत्रों के हवाले से समाचार एजेंसी पीटीआई ने कहा है कि एयर इंडिया को हो रहा नुक़सान इससे कहीं ज़्यादा हो सकता है.

मैनेजमैंट और पायलटों के बीच तनातनी के कारण हज़ारों यात्रियों को ख़ासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

गुरुवार को वरिष्ठ पायलट भी इस हड़ताल में शामिल हो गए थे. 69 वरिष्ठ पायलटों में से 68 ने एयरलाइन को बीमारी का नोटिस दे दिया था.

मैनेजमेंट ने सात पायलटों और छह अन्य कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है.

गुरुवार को एयर इंडिया मैनेजमेंट ने पायलटों के ख़िलाफ़ कोर्ट अवमानना नोटिस जारी किया लेकिन पायलटों ने हड़ताल वापस नहीं ली.

संबंधित समाचार