मारे गए ओसामा

बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी. बीबीसी हिंदी की विशेष लाइव कमेंटरी.
यह अपने आप अपडेट होता रहेगा.

ताज़ा पेज देखें

बीबीसी से बातचीत में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा कि इस्लामाबाद को कई सवालों के जवाब देने हैं.

आईएसआई के अधिकारियों ने कहा है जहाँ ओसामा मारा गया है वहाँ उन्होने 2003 में एक अल क़ायदा आतंकवादी होने के शक में छापा मारा था. लेकिन उसके बाद से उस मकान पर कोई ध्यान नहीं दिया गया.

पाकिस्तान की खुफ़िया एजेंसी आईएसआई ने कहा है कि ओसामा का फौजी केंद्र के इतने करीब पाया जाना बड़ी खुफ़िया विफलता है और आईएसआई इससे बेहद शर्मिंदा है.

ओसामा की बेटी ने कहा है कि उसने अपने पिता को गोली लगते हुए देखा.

अमरीकी सैनिक अपने साथ ओबामा के शव के अलावा एक और इंसान को ले गए जो जिंदा था,बाकि बचे लोगों में ओसामा बिन लादेन की पत्नी और बेटी शामिल हैं.

अमरीकी सैनिक अपने साथ ओबामा के शव के अलावा एक और इंसान को ले गए जो जिंदा था.बाकि बचे लोगों में ओसामा बिन लादेन की पत्नी और बेटी शामिल हैं.

आईएसआई के अधिकारियों से मिली ताज़ा जानकारी के अनुसार जब ऐबटाबाद में ओसामा पर  अमरीकी सैनिकों ने हमला किया तह वहाँ उस परिसर में 17-18 लोग मौजूद थे.

बीबीसी उर्दू के अयाज़ मेहर के मुताबिक पाकिस्तान सेना ने मीडिया को उस मकान में जाने की इज़ाजत दे दी है,जहाँ ओसामा को मारा गया था.

पाकिस्तान और अफ़गानिस्तान  क्षेत्र के लिए अमरीका के विशेष दूत मार्क ग्रॉसमेन ने कहा कि ओसामा की मौत अमरीका, पाकिस्तान और अफ़गानिस्तान की साझा क़ामयाबी है.

पाकिस्तान के विदेश सचिव सलमान बशीर ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ मज़बूती से खड़ा हैं. 

अफ़गानिस्तान, पाकिस्तान और अमरीका की इस्लामाबाद में साझा प्रेस वार्ता

रॉयटर की रिपोर्ट के अनुसार चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि वो आतंकवाद का मुक़ाबला करने के लिए पाकिस्तान की मदद जारी रखेगें.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने ब्रिटिश सांसदों को संबोधित करते हुए कहा है कि अभी ये अंदाज़ा लगाना मुश्किल है कि पाकिस्तान को ओसामा बिन लादेन के ठिकाने के बारे में कितना पता था.  

इस्लामाबाद स्थित अमरीकी दूतावास के प्रेस अधिकारी अल्बर्टो रोड्रिगेज़ ने स्पष्ट किया है कि दूतावास और वाणिज्य दूतावास अन्य कार्यों और अमरीकी नागरिकों के आपात सेवा के लिए खुले रहेंगे

अमरीका ने पाकिस्तान में अपने दूतावास और वाणिज्य दूतावासों को आम लोगों के लिए अगली सूचना तक बंद करने का फ़ैसला किया है.

जॉन ब्रेनैन ने कहा है कि ये भरोसा कर पाना मुश्किल है कि बिना स्थानीय मदद तंत्र के ओसामा इतने दिन तक पाकिस्तान में रह सकता था.

अमरीकी अख़बार वॉशिंगटन पोस्ट में छपे एक लेख में पाकिस्तान के राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी ने कहा है कि जिस कार्रवाई में लादेन मारे गए हैं, वो अमरीका-पाकिस्तान की संयुक्त कार्रवाई नहीं थी.

ब्रेनैन का कहना है कि लादेन ने प्रतिरोध किया और उसके बाद ही उन्हें सिर में गोली मारी गई.

व्हाइट हाउस के आतंकवाद निरोधक सलाहकार जॉन ब्रेनैन ने कहा है कि अमरीकी सैनिक लादेन को ज़िंदा पकड़ने को भी तैयार थे.

बान की-मून ने कहा है कि लादेन की मौत आतंकवाद के ख़िलाफ़ युद्ध में अहम मोड़ साबित होगा.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की-मून ने ओसामा बिन लादेन की मौत पर ख़ुशी व्यक्त की है.

ओबामा ग्यारह सितंबर को हुए अल क़ायदा के हमले में मारे गए कुछ लोगों के परिवारजनों से भी मिलेंगे.

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने गुरूवार को न्यूयॉर्क स्थित ग्राउंड ज़ीरो पर जाने का एलान किया है. ये वो जगह है जहां वर्ल्ड ट्रेड टावर ग्यारह सितंबर के हमले में ध्वस्त हुआ था.

जिहाद से जुड़ी इस्लामी वेबसाइटों पर गुस्सा और दुख जताया गया है और बदले की मांग की जा रही है.

सुरक्षा परिषद ने सभी सदस्य देशों से चौकस रहने की अपील की है और कहा है आतंकवाद को बढ़ावा देनेवाली ताक़तों को क़ानून के कठघड़े में लाने के लिए प्रयास तेज़ करें.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने ओसामा बिन लादेन के मारे जाने की ख़बर का स्वागत किया.

ऐबटाबाद में जहां बिन लादेन रह रहे थे वो पाकिस्तानी अधिकारियों के बारे में कई सवाल खड़े करता है और हम इस बारे में पाकिस्तान से बात करेंगे: ब्रेनन

ब्रेनन ने कहा कि कार्रवाई से पहले ऐबटाबाद के उस मकान का मॉडल बनाया गया और कई बार रिहर्सल किया गया.

अमरीका ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि दुनिया को ये संदेश जाएगा कि आतंकवाद आगे का रास्ता नहीं है.

अमरीका पाकिस्तान को बताने की कोशिश कर रहा है कि क्यों ये कार्रवाई उन्हें बताए बिना की गई.

पाकिस्तान के आतंकवाद विरोधी अधिकारियों के साथ बातचीत चल रही है.

अमरीका में कुछ कांग्रेस सदस्य पाकिस्तान को आर्थिक मदद जारी रखने पर सवाल उठा रहे हैं.

ब्रेनन ने कहा कि निर्णय ये हुआ कि इस्लामी रीति के अनुसार 24 घंटों के अंदर उनका अंतिम संस्कार समुद्र में दफना कर ही हो सकता है.

ब्रेनन ने कहा बिन लादेन की मौत के बाद ये सोचा गया कि उनके शव को कहां भेजा जा सकता है, किस देश में भेजा जा सकता है.

पाकिस्तान के साथ कुछ मतभेद हो सकते हैं लेकिन आतंकवाद के ख़िलाफ़ लड़ाई में उनका सहयोग अहम है: ओबामा के आंतरिक सुरक्षा उप- सलाहकार जॉन ब्रेनन.

तस्वीरें कब जारी की जाएंगी इस पर फ़ैसला नहीं हुआ है.

राष्ट्रपति ओबामा ने बहुत सोच-विचार के बाद कार्रवाई की अनुमति दी.

व्हाइट हाउस ने कहा कि पिछले छह महीने से ऐबटाबाद की इस इमारत पर नज़र रखी जा रही थी.

हमने पाकिस्तानी अधिकारियों को तब तक नहीं बताया जब तक हमारे सारे सैनिक, हेलीकॉप्टर देश से बाहर नहीं निकल गए: व्हाइट हाउस.

कार्रवाई के दौरान मिनट दिन की तरह लग रहे थे, लोगों की सांसें रूकी हुई थीं: व्हाइट हाउस.

व्हाइट हाउस ने कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि बिन लादेन के साथ ही अल क़ायदा को भी दफ़ना सकेंगे.

व्हाइट हाउस ने कहा ये मानना मुश्किल है कि बिन लादेन को पाकिस्तान के अंदर कोई मदद नहीं मिल रही थी.

व्हाइट हाउस पत्रकार वार्ता शुरू.

ओबामा ने कहा है कि बिन लादेन की मौत से दुनिया आज एक बेहतर और पहले से ज़्यादा सुरक्षित जगह है.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अल क़ायदा नेता ओसामा बिन लादेन की मौत को “अमरीका के लिए एक अच्छा दिन”  कहा है.

समाचार एजेंसियों के अनुसार अधिकारियों का कहना है कि ओसामा के शव को समुद्र में इसलिए दफ़नाया गया क्योंकि कोई देश उनका शव लेने को तैयार नहीं था.

अधिकारियों के अनुसार ओसामा का अंतिम संस्कार किया गया उसके बाद समुद्र में दफनाया गया

अमरीकी अधिकारियों ने पुष्टि की है कि ओसामा को समुद्र में दफनाया गया

हम अपने निश्चय से नहीं हटेंगे. वो हमें हरा नहीं सकते- हिलेरी

ओसामा की मौत से आतंक के ख़िलाफ़ लड़ाई रुकेगी नहीं- हिलेरी क्लिंटन

दूतावास के आसपास के उन इलाक़ों में भी सुरक्षा बढ़ाई गई है जहाँ अमरीकी कूटनीतिज्ञ रहते हैं.

भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित अमरीकी दूतावास में भी सुरक्षा इंतजाम और कड़े कर दिए गए.

इन इलाक़ों में रह रहे अमरीकी नागरिकों को अपने घर या होटल से बाहर निकलने या किसी प्रदर्शन में शामिल होने के ख़िलाफ़ चेतावनी दी गई है.

ये चेतावनी ख़ास तौर पर उन अमरीकी नागरिकों के लिए है जो दुनिया के ऐसे इलाक़ों में रह रहे हैं जहां अमरीका के ख़िलाफ़ हिंसक प्रतिक्रिया हो सकती है.

ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद, अमरीका के विदेश मंत्रालय ने विदेश में रह रहे या यात्रा कर रहे अपने नागरिकों को सतर्क रहने की सलाह दी है.

इस्लामाबाद से जारी इस विज्ञप्ति में लिखा है, "ये अभियान अमरीका की उस घोषित नीति के तहत किया गया कि ओसामा बिन लादेन दुनिया में जहां भी पाया जाएगा, उसे अमरीकी सैन्य बल मार देंगे."

पाकिस्तान ने कहा है कि अल क़ायदा की ओर से किए आंतंकवादी हमलों में पिछले सालों में हज़ारों बेगुनाह पाकिस्तानी नागरिकों की मौत हुई है.

पाकिस्तान ने दोहराया है कि उसकी नीति है कि वो 'किसी देश पर आतंकवादी हमले के लिए अपनी ज़मीन का इस्तेमाल नहीं होने देंगा.'

अमरीका का कहना है कि ख़ुफ़िया जानकारियों के आधार पर हुई इस कार्रवाई का पहला सुराग पिछले साल अगस्त में मिला था.

पाकिस्तान के आधिकारिक बयान के अनुसार राष्ट्रपति बराक ओबामा ने फ़ोन पर राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी को बताया कि एक अभियान में अमरीकी सैनिक ओसामा बिन लादेन को मारने में सफल रहे हैं.

फ़्रांस के राष्ट्रपति निकोलस सारकोज़ी ने कहा ओसामा की मौत विश्वभर में आतंकवाद के खिलाफ़ छिड़ी लड़ाई में एक महत्वपूर्ण पड़ाव है.

इसराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इसे न्याय और आज़ादी की जीत बताया है

जगह-जगह लोग अपने घरों से निकल कर सड़कों पर आ गए हैं और खुशियों का इज़हार कर रहे हैं.

इस बीच अमरीका से बीबीसी संवाददाता ज़ुबैर अहमद का कहना है कि ओसामा बिन लादेन की हत्या की खबर फैलते ही अमरीका में जश्न का माहौल पैदा हो गया है.

लादेन के इस भरोसेमंद दूत की पहचान एक व्यक्ति ने की थी, जिसे अमरीकी सैनिकों ने 11 सितंबर 2001 के हमले के बाद पकड़ा था.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़ अमरीकी सैनिकों को इस तीन मंज़िला आलीशान इमारत पर उस समय संदेह हुआ, जब उन्होंने चार साल से ज़्यादा समय तक लादेन के सबसे भरोसेमंद दूत पर नज़र रखी.

अमरीकी सैनिकों की 40 मिनट की कार्रवाई के बाद ओसामा बिन लादेन मारे गए.

समाचार एजेंसी एपी ने अमरीकी अधिकारियों के हवाले से बताया है कि लादेन के शव को समुद्र में डाल दिया गया है.

लेकिन इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.

यह ठिकाना इस्लामाबाद से 50 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में मौजूद है.

स्थानीय लोगों के मुताबिक पाकिस्तानी सैन्य दल हमले के बाद घटनास्थल पर पहुंचे और अब उन्होंने इलाके को पूरी तरह अपने कब्ज़े में ले लिया है.

फ़िलहाल यह साफ़ नहीं है कि इस कार्रवाई में किसी और की भी मौत हुई है या नहीं.

इस कार्रवाई में एक हेलीकॉप्टर परिसर के अंदर ही क्रैश हो गया.

लोगों के मुताबिक इस बीच एक तीसरे हेलीकॉप्टर ने परिसर पर मिसाइल दाग़नी शुरु कर दीं और इमारत के अंदर से भी इसके जवाब में गोलीबारी हुई.

गवाहों ने बताया कि कुछ लोग हेलीकॉप्टर से उतरे और पश्तो भाषा में उन्होंने स्थानीय लोगों को दूर रहने के लिए कहा.

स्थानीय लोगों का कहना है कि दीवार पर कैमरे भी लगे थे. यह परिसर ऐबटाबाद के कैंट इलाके में मौजूद है.

इस परिसर के चारों ओर 12 फुट लंबी दीवार थी जिस पर हर तरफ कंटीले तारों का घेरा था.

इस अभियान में लगभग 3000 गज के एक परिसर में मौजूद एक तीन मंज़िली इमारत पर निशाना साधा गया.

लादेन के मारे जाने की घोषणा के बाद ऐबटाबाद और घटनास्थल के क़रीब मौजूद चश्मदीदों से कई तरह की जानकारियां मिल रही हैं.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने ब्रिटेन के सभी दूतावासों को सुरक्षा समीक्षा करने और सतर्क रहने को कहा है.

 वेटिकन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि लादेन को कई लोगों की जान लेने और धर्म का घृणा फैलाने के लिए इस्तेमाल करने के लिए भगवान के सामने जवाब देना होगा.

 जर्मनी की चांसलर एगेला मर्केल ने कहा ‘लादेन की मौत शांति सेनाओं की जीत है.’

पाकिस्तान ने ओसामा के मारे जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा 'ये विश्व भर के आतंकवादी संगठनों के लिए बड़ा झटका है. '

अमित बरुआ के मुताबिक दुनिया में 9/11 के बाद से ये यह सबसे महत्वपूर्ण घटना है, जिसके बाद अमरीकी सेनाओं के अफ़ग़ानिस्तान से बाहर निकलने का पथ भी प्रशस्त होगा.

बीबीसी हिंदी सेवा के प्रमुख अमित बरुआ के अनुसार इस घटना के बाद पाकिस्तान पर चरमपंथियों से निपटने के मुद्दे पर दबाव और बढ़ेगा.

ऐबटाबाद में लादेन जिस घर में छिपे हुए थे वह घर उस इलाके के घरों से आठ गुना बड़ा था जहाँ कोई फ़ोन और इंटरनेट कनैक्शन नहीं था.

ऐबटाबाद के बगंले में ही छुपे हुए थे ओसामा बिन लादेन

ऐबटाबाद में पाकिस्तान सेना की तीन रेजिमेंट और हज़ारों सैनिक मौजूद है.

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करज़ई ने कहा ‘लादेन की मौत से तालिबान को सबक सीखना चाहिए.’

1979 में जब सोवियत संघ ने अफगानिस्तान पर हमला किया तो ओसामा ने  मुजाहिदीन के साथ हाथ मिलाया और शस्त्र उठा लिए.

ओसामा बिन लादेन का शव अमरीका के कब्ज़े में है.

पाकिस्तान के विपक्षी नेता इमरान खान ने कहा ‘भले ही अमरीका ने लादेन के मार लिया हो, लेकिन अभी भी इस युद्ध को ठहराने के लिए कोई तर्क नहीं है.’

मोहम्मद बिन लादेन सऊदी अरब के अरबपति बिल्डर थे जिनकी कंपनी ने देश की लगभग 80 फ़ीसदी सड़कों का निर्माण किया था 

ओसामा बिन लादेन साऊदी अरब के व्यापारी मोहम्मद बिन लादेन के 52 बच्चों में से 17वें थे.

अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने ओसामा की मौत को अमरीका के लिए ऐतिहासिक और बड़ी सफलता बताया है.

बीबीसी के पाकिस्तान संवाददाता के अनुसार जहाँ बिन लादेन को मारा गया वो जगह पाकिस्तान मिलिट्री एकेडमी के 800 मीटर दूर थी.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा 'ओसामा का मारा जाना एक बड़ी सफलता है.'

अफगान सुरक्षा अधिकारियों ने कहा‘ हम हमेशा से ही कहते रहे हैं कि ओसामा पाकिस्तान में है.’

फ्रांस सरकार ने ओसामा बिन लादेन के मारे जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा ‘ये आतंकवाद के खिलाफ़ सभी लोकतंत्रों की जीत है.’

अल-जज़ीरा के संवाददाता के अनुसार ओसामा बिन लादेन के शव को बगराम बेस ले जाया जा रहा है, जहाँ पत्रकारों को इसे देखने के लिए बुलाया जा सकता है.

इन तीन लोगों में से  एक ओसामा बिन लादेन का बेटा है.

अमरीकी अधिकारियों के अनुसार ओसामा को मारने के अभियान में ओसामा के अलावा तीन और लोग मारे गए हैं,

गृह मंत्री पी चिदांबरम ने कहा कि पाकिस्तान 26/11 हमलावरों की आवाज़ों के नमूने जल्द भारत को मुहैया कराए. 

भारत के सरकारी टीवी दूरदर्शन के अनुसार भारत के गृह मंत्री पी चिदांबरम ने कहा है कि ओसामा का पाकिस्तान में मारा जाना चिंताजनक.  पाकिस्तान अब भी 'आतंकवादियों को पनाह' दे रहा है.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा की ओसामा के मारे जाने की घोषणा के बाद से ही व्हाइट हाऊस के सामने भीड़ इक्कठा होनी शुरु हो गई है.

 अमरीका में जश्न का माहौल है और लोग सड़कों पर जमा हैं.  दुनिया भर से सरकारें और राजनीतिक नेता अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भारतीय समयानुसार सोमवार नौ बजे राष्ट्र को संबोधित करते हुए घोषणा की कि अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन मारे गए हैं.

 

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.