गज़ा में युद्ध नहीं मैराथन

  • 5 मई 2011
गज़ा मैराथन इमेज कॉपीरइट AFP Getty Images

पहली बार सैकड़ों की तादाद में धावकों ने गुरुवार को गज़ा मैराथन में हिस्सा लिया.

इन धावकों ने फ़लस्तीनी क्षेत्र में दौड़ लगाई. सुबह होते ही लगभग पचास धावक उत्तरी गज़ा पट्टी के बैत हुनून की उस जगह इकट्ठे हो गए, जहां से इस मैराथन की शुरुवात होनी थी.

इस मैराथन में ओलम्पिक में पांच हज़ार मीटर दौड़ में हिस्सा ले चुके गज़ा के 31 साल के नादेर अल मसरी ने भी हिस्सा लिया और जीत दर्ज की.

मसरी ने दो घंटे 42 मिनट और 47 सेंकेड का समय निकाला. उनके बारे में कहा जा रहा है कि वो 2012 में लंदन ओलम्पिक के लिए क्वालीफाई कर सकते हैं.

मैराथन में हिस्सा लेने से पहले नादेर अल मसरी ने कहा कि ये उनके लिए बेहद अच्छा दिन है क्योंकि पहली बार गज़ा में मैराथन का आयोजन हुआ है.

स्कूली बच्चे

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption स्कूली बच्चों ने भी मैराथन में हिस्सा लिया

इस मैराथन का आयोजन संयुक्त राष्ट्र ने किया था, मक़सद था इसी क्षेत्र में ग्रीष्मकालीन खेलों के लिए प्रायोजक जुटाना.

बीबीसी के गज़ा संवाददाता का कहना है कि मैराथन के आयोजन के लिए गज़ा में पर्याप्त जगह थी . गज़ा पट्टी में ये दूरी लगभग उतनी ही है जितनी कि मैराथन के लिए चाहिए 26 मील यानी 42 किलोमीटर.

धावकों ने गज़ा पट्टी के इलाके में दौड़ कर मिस्र की सीमा पर स्थित रफा़ह पर दौड़ पूरी की.

सैकड़ों की तादाद में फ़लस्तीन के स्कूली बच्चों भी इस मैराथन में हिस्सा लिया .

चटकीले रंगों की टीशर्ट पहने इन स्कूली बच्चों ने हर एक किलोमीटर पर रिले रेस के ज़रिए मैराथन में हिस्सा लिया.

हमास के नियंत्रण वाले इस क्षेत्र में इस मैराथन आयोजन के लिए सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये गये थे.

संबंधित समाचार