जेरोनिमो नाम के प्रयोग पर बवाल

जेरोनिमो इमेज कॉपीरइट AP
Image caption जेरोनिमो अपाचे जनजाति के मशहूर नेता थे

अमरीकी की अपाचे जनजाति ने अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन के ख़िलाफ़ सैन्य कार्रवाई में अपने चर्चित लड़ाके जेरोनिमो के नाम का इस्तेमाल करने पर कड़ी आपत्ति जताई है.

अपाचे जनजाति ने इस मामले में अमरीका सरकार से माफ़ी मांगने को कहा है. फ़ोर्ट सिल अपाचे ट्राइबल के चेयरमैन जेफ़ हाउज़र ने कहा कि चर्चित अपाचे लड़ाके की तुलना सामूहिक संहार करने वाले से करना पीड़ादायक है और ये सभी मूल अमरीकियों के लिए अपमानजनक भी है.

जिस कमांडो टीम ने पाकिस्तान के ऐबटाबाद शहर में कार्रवाई करके ओसामा बिन लादेन को मार दिया था, उसने अपनी प्रगति रिपोर्ट में जेरोनिमो के नाम का इस्तेमाल किया था.

लेकिन अमरीका के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि नाम का इस्तेमाल किसी को अपमानित करने करने के उद्देश्य से नहीं किया गया.

मंत्रालय ने जेरोनिमो नाम के इस्तेमाल के बारे में नहीं बताया लेकिन इतना ज़रूर कहा कि कई बार कोड के नाम का चयन एकाएक ऐसे ही हो जाता है.

कोड नाम के कारण कार्रवाई में शामिल लोगों को एक-दूसरे से संपर्क करने में आसानी होती है और अहम सूचनाएँ ग़लत व्यक्तियों तक पहुँचने का ख़तरा नहीं रहता.

नाराज़गी

लेकिन पूरे घटनाक्रम में जेरोनिमो के नाम के इस्तेमाल से नाराज़ अपाचे जनजाति के जेफ़ हाउज़र ने राष्ट्रपति बराक ओबामा को पत्र लिखा है.

इस पत्र में उन्होंने लिखा है- इस समय पूरे देश में मूल अमरीकी जनजाति के बच्चे इस सच्चाई का सामना कर रहे हैं कि एक मशहूर व्यक्ति का नाम एक आतंकवादी और हज़ारों निर्दोष अमरीकियों को मारने वाले से जोड़ा जा रहा है. आप ये सोचिए कि वे इस समय कैसा महसूस कर रहे होंगे.

एक समय अपाचे नेता जेरोनिमो मैक्सिको और अमरीका दोनों देशों के सैनिकों के लिए सिरदर्द बने हुए थे. उन्होंने अपनी ज़मीन, अपने लोग और उनके जीने के तरीक़े की रक्षा के लिए हथियार उठाया था.

वर्षों तक वे सैनिकों की आँखों में धूल झोंकते रहे लेकिन आख़िरकार 1886 में पकड़े गए. उन्होंने ओक्लाहोमा की जेल में रखा गया जहाँ 23 साल तक क़ैद में रहने के बाद 1909 में निमोनिया से उनकी मौत हो गई.

अपाचे नेता हाउज़र ने ओबामा को लिखे पत्र में उनके वादों पर सवाल भी उठाया. उन्होंने कहा कि ओबामा सहानुभूति और बदलाव के संदेश के आधार पर राष्ट्रपति पद के लिए चुने गए, लेकिन उन्होंने देश के सबसे बड़े शत्रु का नाम जेरोनिमो से जोड़कर ये जता दिया है कि मूल अमरीकियों के लिए उनके मन में कोई सहानुभूति नहीं है.

संबंधित समाचार