लादेन के परिसर से मिले 'तकनीकी खजाने' की जांच

  • 5 मई 2011
प्रदर्शनकारी इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption अफ़गानिस्तान में ओसामा की मौत का विरोध भी हो रहा है.लोग ओसामा के समर्थन में आए हैं.

अमरीका में जांचकर्ता ओसामा बिन लादेन के परिसर से मिले कंप्यूटर और हार्ड डिस्कों की जांच में लगे हैं और इनसे अल क़ायदा के बारे में कई नई जानकारियां मिलने की संभावना है.

खुफ़िया सूत्र ओसामा के परिसर से मिले सामान को तकनीकी खज़ाना मान रही है क्योंकि वहां से दस कंप्यूटर, एक मोबाइल फोन और सौ के करीब फ्लैश ड्राइव मिले हैं.

अमरीका के अटार्नी जनरल एरिक होल्डर का कहना है कि इसकी जांच से अमरीका की आतंकवाद सूची में और भी नाम जोड़े जा सकते हैं.

इस बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की है कि वो आतंकवाद से लड़ने में पाकिस्तान की मदद करे.

गिलानी ने पूर्व में कहा था कि ओसामा के बारे में जानकारी न जुटा पाने में सिर्फ़ पाकिस्तान की खुफ़िया एजेंसी विफल नहीं रही बल्कि ये पूरी दुनिया की खुफ़िया एजेंसियों की विफलता है.

तस्वीरें जारी नहीं होंगी

इससे पहले अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने साफ़ कर दिया है कि ओसामा बिन लादेन के शव की तस्वीरें जारी नहीं होंगी.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption ओबामा ने सीबीएस टेलीविज़न पर इंटरव्यू में ये बातें कहीं.

ओबामा का कहना था, ‘‘मुझे लगता है कि इन तस्वीरों की वीभत्सता के मद्देनज़र यह हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा बन सकता है.’’

सीबीएस टेलीविज़न के साथ एक इंटरव्यू में बराक ओबामा ने कहा कि उन्हें डर है कि यदि तस्वीरें जारी की गईं इस्लामी जगत में ग़ुस्सा भड़क सकता है और वहां मौजूद अमरीकी अधिकारियों को निशाना बनाया जा सकता है.

ओबामा का कहना था कि बिन लादेन की मौत हो चुकी है लेकिन जो लोग इस पर विश्वास नहीं कर रहे वो उन वीभत्स तस्वीरों को देख कर भी नहीं करेंगे.

उनका कहना था, “तस्वीरें जारी कर खुशी मनाने की ज़रूरत नहीं है. कुछ लोग भले ही यकीन नहीं करें लेकिन सच्चाई यही है कि आप ओसामा बिन लादेन को इस धरती पर चलता हुआ फिर कभी नहीं देखेंगे.”

उन्होंने कहा हम उन लोगों में से नहीं हैं जो इन चीजों (तस्वीरों) को ट्रॉफ़ी की तरह दिखाते चलें.

संबंधित समाचार