इतिहास के पन्नों से

  • 9 मई 2011

इतिहास में नौ मई का दिन कई कारणों से याद किया जाएगा

विश्व बैंक का पहला ऋण

Image caption फ्रांस को दिया ये ऋण, विश्व बैंक का अबतक का सबसे बड़ा ऋण है.

आज ही के दिन 1947 में अंतरराष्ट्रीय संस्था विश्व बैंक ने अपना पहला ऋण फ्रांस को दिया था.

फ्रांस ने 500 मिलियन डॉलर के ऋण की मांग की थी, लेकिन विश्व बैंक ने इसकी आधी राशि यानी 250 मिलियन डॉलर को ही स्वीकृति दी.

विश्व बैंक की दूसरी वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक़ फ्रांस का चुनाव यूरोप में उसके अहम आर्थिक दर्जे की वजह से किया गया.

फ्रांस को ये ऋण दूसरे विश्व युद्ध के बाद पुनर्निर्माण के लिए दिया गया.

1944 में स्थापित की गई संस्था विश्व बैंक अलग-अलग देशों में पुनर्निर्माण के काम और ग़रीबी कम करने के लिए आर्थिक मदद देती है.

नेटो का हिस्सा बना पश्चिमी जर्मनी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption उस दिन सुबह फ्रांस स्थित नेटो मुख्यालय में जर्मनी का लाल पीले काले रंग का झंडा फहराया गया.

वर्ष 1955 में आज ही के दिन पश्चिमी जर्मनी नेटो का हिस्सा बन गया था.

आचार के मुताबिक़ उस दिन जर्मनी का राष्ट्र गान गाया जाना था, लेकिन फ़्रांसीसी बैंड ने उसके नाज़ी संकेतार्थ की वजह से उसे बजाने से मना कर दिया.

आख़िरकार एक ब्रितानी बैंड ने उसे बजाया.

पश्चिमी जर्मनी के नेटो का हिस्सा बनाए जाने से चिंतित पूर्व सोवियत संघ ने उसी साल इसके विरोध में वारसॉ की संधि की.

पश्चिमी जर्मनी और पूर्वी जर्मनी अक्तूबर 1990 में एक देश बन गए.

सरकार-विरोधी प्रदर्शनों में 24 की मौत

इसी दिन साल 1979 में लातिन अमरीकी देश अल सल्वाडोर में सरकार-विरोधी प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी से 24 लोगों की मौत हो गई थी.

ये प्रदर्शन राजधानी सैन साल्वाडोर के एक गिरजाघर के सामने आयोजित हुआ था.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक हमले के बाद गिरजाघर की सीढ़ियों पर मारे गए लोगों के शव बिखरे हुए थे.

वामपंथी संगठन, पॉपुलर रिवोल्यूशनरी ब्लॉक ने ये प्रदर्शन देश के सैन्य शासक जेनरल हम्बर्टो रोमेरो से अपने पांच नेताओं की रिहाई की मांग उठाने के लिए आयोजित किया था.

संबंधित समाचार