सीरिया: दमिश्क़ में भारी गोलाबारी

दमिश्क़ इमेज कॉपीरइट AP
Image caption सेना ने राजधानी दमिश्क़ के कुछ ईलाक़ों की घेराबंदी कर दी है और वहां गोलाबारी हो रही है.

सीरिया की राजधानी दमिश्क़ और मुल्क के कई अहम शहरों में सेना ने प्रर्दशनकारियों के ख़िलाफ़ अभियान तेज़ कर दिया है. घरों की तलाशी के साथ-साथ बडे़ पैमाने पर लोगों की गिरफ़्तारी की जा रही है.

इस बीच बीबीसी के रक्षा और राजनयिक मामलों के संवाददाता ने कहा है कि इस हफ्ते के अंत तक यूरोपीय संघ सीरिया के 14 बड़े अधिकारियों के ख़िलाफ़ प्रतिबंध लगाने जा रहा है जिसमें यात्रा और संपत्ति पर रोक शामिल है.

गोलाबारी

सेना ने दमिश्क़ के पश्चिमी इलाक़े की नाकेबंदी कर दी है और वहाँ भारी गोलाबारी जारी है.

मानवाधिकार के लिए काम करनेवाली संस्थाओं की वेबसाईट का कहना है कि इलाक़े में गहरा धुआँ फैला हुआ है, संचार के माध्यमों पर रोक लगा दी गई है और बिजली काट दी गई है.

इस बीच देश के तीसरे बडे़ शहर होम्स शहर में भी सेना की और टुकडि़याँ भेजे जाने की ख़बर है. सेना ने तटीय शहर बानियास और दक्षिणी नगर डेरा में भी सरकार विरोधी प्रर्दशनकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई तेज़ कर दी है.

सेना अपने साथ टैंक भी लेकर गई है. वो घरों पर छापे मार रहे हैं और लोगों की गिरफ़्तारी कर रहे हैं. लोगों के गिरफ़्तारी का काम शनिवार से ही जारी है.

सरकारी टेलीविजन ने कहा है कि बंदूकधारियों के एक हमले में बस मे सवार 10 शहरियों की मौत हो गई है. चैनल का कहना था कि ये लोग लेबनान से वापस आ रहे थे कि उनपर बंदूक़धारियों ने होम्स के पास के किसी इलाक़े में हमला कर दिया. ये घटना रविवार की है.

विरोध जारी

सीरिया में मौजूद मानवधिकार कार्यकर्ता रिज़वान ज़िदेह ने कहा है कि हालात बहुत ख़तरनाक हैं.

रिज़वान ज़िदेह ने कहा कि विद्रोह शुरू होने के बाद हज़ार से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं और आठ हज़ार लोग गिरफ़्तार हुए हैं.

सीरिया की सेना दावा कर रही है कि उनकी कार्रवाई 'आतंकवादियो के ख़िलाफ़' है.

सेना के अनुसार होम्स, बानियास और डेरा और उसके पास के गावों में जारी उसकी ताज़ा कार्रवाई में छह सैनिकों की मौत हो गई है और कई घायल हैं.

बीबीसी संवाददाता जिम म्यूर ने बेरूत से कहा है कि सरकार के कड़े रूख़ के बावजूद देश के कई हिस्सों में धरनों और प्रर्दशनों का सिलसिला जारी है.

लेकिन म्यूर के मुताबिक़ ख़बरों की पुष्ठि एक मुश्किल और जोखिमभरा काम है क्योंकि हूकूमत ने कई इलाक़ो में पत्रकारों के जाने पर मनाही लगा रखी है.

संबंधित समाचार