कर्नल ग़द्दाफ़ी के दूत मॉस्को में

  • 17 मई 2011
इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कर्नल ग़द्दाफ़ी ने बातचीत के लिए अपने दूत मॉस्को भेजे

लीबियाई नेता कर्नल ग़द्दाफ़ी के दूत रूसी अधिकारियों के साथ बातचीत करने वाले हैं.

इस बीच नेटो ने हवाई हमले कर लीबिया की राजधानी त्रिपोली में कर्नल ग़द्दाफ़ी के निवास के निकट दो महत्वपूर्ण सरकारी इमारतों को निशाना बनाया है.

सोमवार को अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय के मुख्य अभियोजक ने कर्नल ग़द्दाफ़ी की गिरफ़्तारी की माँग की थी.

अभियोजक लुई मोरेनो ओकाम्पो का कहना है कि लीबिया में नागरिकों पर 'व्यापक और योजनाबद्ध हमलों' के लिए कर्नल ग़द्दाफ़ी, उनके पुत्र सैफ़-अल-इस्लाम और ख़ुफ़िया प्रमुख अब्दुल्लाह अल-सनुस्सी की सबसे ज़्यादा ज़िम्मेदारी बनती है.

लीबियाई सरकार पहले ही कह चुकी है कि वह इस घोषणा की अनदेखी करेगी.

सबके साथ बातचीत

रूस के विदेश मंत्री सर्जेई लवारोफ़ ने कहा, "हम मॉस्को में त्रिपोली और विद्रोहियों दोनों के प्रतिनिधियों से मिलने के लिए राज़ी हो गए थे. त्रिपोली के दूत यहां पहुँच रहे हैं. विद्रोहियों के दूतों को बुधवार को यहाँ पहुँच जाना था, लेकिन उन्होंने हमें सूचित किया है कि तकनीकी कारणों से उन्हें यह यात्रा स्थगित करनी पड़ रही है."

उन्होंने देरी का कारण नहीं बताया, सिर्फ़ यह कहा कि विद्रोहियों के साथ निकट भविष्य में बातचीत ज़रूर होगी.

मुक़दमे के लिए तैयार

इससे पहले सोमवार को ओकाम्पो ने कहा कि 1200 दस्तावेज़ों का अध्ययन करने और 50 प्रत्यक्षदर्शियों से मिलने के बाद उनके पास सबूत है कि कर्नल ग़द्दाफ़ी ने ”ख़ुद निहत्थे लीबियाई नागरिकों पर हमले करने के आदेश दिए थे.”

Image caption ओकाम्पो के पास ग़द्दाफ़ी के ख़िलाफ़ पर्याप्त सबूत

उन्होंने हेग में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “उनके बलों ने लीबियाई लोगों के घरों में घुसकर हमले किए, प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चलाई और नमाज़ के बाद मस्जिद से बाहर निकलने वाले लोगों को भी निशाना बनाया.”

ओकाम्पो का कहना था, “कर्नल ग़द्दाफ़ी के दूसरे बड़े पुत्र सैफ़-अल-इस्लाम वास्तव में प्रधानमंत्री के तौर पर काम कर रहे हैं और उनके बहनोई सनूसी जो कि सैनिक ख़ुफ़िया तंत्र के प्रमुख हैं, उनके दाहिने हाथ हैं.”

अभियोजक ओकाम्पो ने ज़ोर देकर कहा कि वह मुक़दमा चलाने के लिए तैयार हैं.

लीबिया के विपक्ष ने अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायालय के इस क़दम की सराहना की है.

संबंधित समाचार