ज्वालामुखी की वजह से कई उड़ानें रद्द

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption आइस लैंड में एक साल के भीतर दूसरा ज्वालामुखी फटा

आइसलैंड में ज्वालामुखी फटने से फैलने वाली राख की वजह से ब्रिटेन के हज़ारों यात्रियों की उड़ानें रद्द हो गई हैं.

बीए,केएलएम और ईज़ी जेट ने स्कॉटलैंड से आने और जाने वाली अपनी उड़ानें कुछ समय के लिए रद्द कर दी हैं.लेकिन रेयान एयर ने एडिनबरा,ग्लासगो और एबरडीन से सुबह की उड़ानें रद्द करने के आयरिश अधिकारियों के आदेश पर आपत्ति प्रकट की है.

राख के बादलों के ब्रिटेन के अन्य इलाक़ों में पहुँचने की उम्मीद इस सप्ताह के अंत तक नहीं है.रेयान एयर ने कहा है कि वह ”बिना वजह” उड़ानें रद्द करने के बारे में शिकायत करेगी.

आइसलैंड में साल भर पहले भी एक ज्वालामुखी फटा था जिसकी वजह से पूरे यूरोप में कई उड़ानों को रद्द करना पड़ा था.

ब्रिटेन की हवाई सीमा बंद करनी पड़ी थी और ज्वालामुखी की राख से हवाई जहाज़ों के इंजन को होने वाले नुकसान के बारे में चिंता बढ़ गई थी.

इस बार ब्रिटेन में राख के बादलों में जहाज़ों के उड़ने का फ़ैसला जहाज़ कंपनियों के ऊपर छोड़ दिया गया है हाँलाकि उन्हें अंतिम मंज़ूरी के लिए नागरिक उड्डयन प्राधिकरण से पूछना पड़ता है.

ब्रिटेन के यातायात मंत्री का कहना है कि इस बार उनका देश इस विपदा से निपटने के लिए 2010 की तुलना में कहीं बेहतर ढ़ंग से तैयार है.लेकिन उनका यह भी मानना है कि पिछले बीस सालों तक “असामान्य रूप से शाँत ” रहने के बाद यात्रियों को आइसलैंड में ज्वालामुखी गतिविधियों से हुई रूकावटों के साथ रहना सीखना होगा.

आइसलैंड में शनिवार को फूटे इस ज्वालामुखी की वजह से उसकी वायु सीमाओं को बंद कर दिया गया है.

लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि इस विस्फोट और पिछले साल के विस्फोट में फ़र्क है.राख के कण पहले की तुलना में बड़े हैं,और इसलिए धरती पर जल्दी गिरते हैं.

संभावित अवरोधों के डर से राष्ट्रपति ओबामा आयरलैंड से निर्धारित समय से एक दिन पहले अपनी राजकीय यात्रा पर इंग्लैंड पहुँच गए हैं.

संबंधित समाचार