नेटो का ग़द्दाफ़ी के युद्धपोतों पर हमला

Image caption लीबिया में नेटो के हवाई हमले जारी

नेटो ने लीबिया के त्रिपोली, अलख़म्स और सिरते पर किए गए हवाई हमले में कर्नल ग़द्दाफ़ी की सेना के आठ युद्धपोतों को निशाना बनाया है.

एक बयान में नेटो के प्रवक्ता ने कहा कि नागरिकों के ख़िलाफ़ कर्नल ग़द्दाफ़ी के नौसेना के बढ़ते इस्तेमाल को देखते हुए नेटो ने ”निर्णायक कार्रवाई” करने का फ़ैसला किया.

राजधानी के बंदरगाह पर निशाना बनाए गए पोतों से लपटें और धुआँ निकलते हुए देखा जा सकता था.

नेटो के वक्तव्य में कहा गया है कि ग़द्दाफ़ी के अपने युद्धपोतों की बारूदी सुरंगों से लीबियाई विद्रोहियों को दिए जाने वाली मदद में बाधा पहुंचा रहे थे. और उनके नेटो पर हमला करने के इरादे भी दिखाई दे रहे हैं.

अभी ये नहीं स्पष्ट हो पाया है कि इस हमले में कुछ लोग हताहत भी हुए हैं या नहीं. नेटो के हमलों को संयुक्त राष्ट्र संघ की अनुमति प्राप्त है और ये हमले नागरिकों को कर्नल ग़द्दाफ़ी के बलों से बचाने के लिए किए जा रहे हैं.

नेटो के महासचिव आँडर्स फ़ोग रसमुसेन ने कहा है कि कर्नल ग़द्दाफ़ी को हमलें से काफ़ी नुकसान उठाना पड़ रहा है और वो दिन ब दिन अलग-थलग पड़ते जा रहे हैं.

रसमुसेन ने कहा, ”हमने ग़द्दाफ़ी की युध्द मशीनरी को काफ़ी हद तक तहस-नहस कर दिया है और अब हमे परिणाम दिखाई देने लगे हैं.विपक्ष की स्थिति पहले से बेहतर हुई है.”

पानी की कमी

इस बीच बेनग़ाज़ी में विद्रोहियों की नेशनल ट्राँज़ीशनल काउंसिल ने त्रिपोली के दक्षिण पश्चिम स्थित नफ़ूसा पहाड़ियों पर बसे शहरों की मदद के लिए अंतरराष्ट्रीय सहायता की अपील की है.

इस क्षेत्र का दौरा करके आए काउंसिल के सदस्य अहमद बिमूसा ने कहा कि वहाँ के लोगों पर कर्नल ग़द्दाफ़ी की सेनाएं लगातार बमबारी कर रही हैं और वहां पानी की सख़्त कमी हो गई है.

संबंधित समाचार