ओसामा के बेटों की नाराज़गी

  • 11 मई 2011
उमर बिन लादेन इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption उमर बिन लादेन अपने पिता के विचारों से सहमत नहीं थे

ओसामा बिन लादेन के बेटों ने अमरीका की कड़ी आलोचना की है और कहा है कि उसने मनमाने तरीक़े से उनके पिता की हत्या को अंजाम दिया. अमरीकी अख़बार न्यूयॉर्क टाइम्स को दिए गए एक बयान में कहा गया है कि परिजन ये जानना चाहते हैं कि लादेन को ज़िंदा क्यों नहीं पकड़ा गया.

बयान में ये भी मांग की गई है कि दो मई की कार्रवाई के दौरान पकड़े गए उनके रिश्तेदारों को छोड़ देना चाहिए. दो मई को पाकिस्तान के ऐबटाबाट शहर में अमरीकी सैन्य कार्रवाई में अल क़ायदा प्रमुख ओसामा बिन लादेन मारे गए थे.

एक अन्य बयान एक जिहादी वेबसाइट पर आया है जिसमें कहा गया है कि लादेन के शव को समुद्र में डाला जाना उनके परिवार को नीचा दिखाना और अपमानित करना है.

न्यूयॉर्क टाइम्स में छपा बयान ओसामा बिन लादेन के चौथे बेटे उमर बिन लादेन के नाम से है, जिन्होंने बार-बार अपने को अपने पिता की विचारधारा से अलग किया है. बयान में कहा गया है कि न शव दिखाया गया है और न ही सबूत के तौर पर तस्वीरें ही जारी हुई हैं, इसलिए परिजन इस पर विश्वास नहीं करते.

लेकिन अगर उनकी मौत हो गई है, तो वे जानना चाहते हैं कि क्यों एक निहत्थे व्यक्ति को गिरफ़्तार नहीं किया गया और उन पर अदालत में मुक़दमा नहीं चलाया गया क्योंकि इससे दुनिया के सामने सच आ सकता था.

उल्लंघन

उन्होंने ये भी तर्क दिया है कि बिन लादेन की हत्या अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों का उल्लंघन है. बयान में ये भी कहा गया है कि इराक़ के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन और सर्बियाई पूर्व राष्ट्रपति स्लोबोदान मिलोसेविच को अदालत में पेश होने का मौक़ा दिया गया था.

बयान में कहा गया है- हमारा मानना है कि मनमाने तरीक़े से किसी की हत्या राजनीतिक समस्या का समाधान नहीं और ये दिखना चाहिए कि अपराध के मामले में न्याय हुआ है.

लादेन के परिजनों ने इसकी जाँच की मांग की है कि लादेन को बिना अदालती कार्रवाई के क्यों फ़ौरन मार दिया गया. परिजनों ने लादेन की पत्नियों और बच्चों की रिहाई की भी मांग की है, जिनके बारे में माना जा रहा है कि वे पाकिस्तान की हिरासत में हैं.

बयान में ये भी कहा गया है कि लादेन के शव को समुद्र में डालने के अमरीकी फ़ैसले के कारण उनके परिजन धार्मिक रिवाजों से वंचित रह गए.

एक जिहादी वेबसाइट पर इससे थोड़ा अलग बयान जारी हुआ है. इस बयान में कहा गया है कि अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा हमारे पिता का भाग्य का फ़ैसला करने के लिए क़ानूनी रूप से ज़िम्मेदार हैं.

बयान में ये भी कहा गया है कि शव को समुद्र में डाल कर परिवार और उनके समर्थकों को नीचा दिखाया गया है.

संबंधित समाचार