स्ट्रॉस कान पर आरोप के बावजूद पार्टी पर असर नहीं

  • 20 मई 2011
फ़्रांस्वा ओलांड इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption एक सर्वेक्षण के अनुसार अगर सोशलिस्ट पार्टी फ़्रांस्वा ओलांड को राष्ट्रपति चुनाव के लिए मनोनित करती है तो वे सारकोज़ी को हरा देंगे.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रमुख डोमिनिक स्ट्रॉस कान बलात्कार के आरोप में न्यूयॉर्क में गिरफ़्तार होने से पहले फ़्रांस में अगले वर्ष होने वाली राष्ट्रपति चुनाव की दौड़ सबसे आगे थे.

लेकिन लगता है स्ट्रॉस कान की गिरफ़्तारी का उनकी सोशलिस्ट पार्टी के सियासी प्रभाव पर कोई ख़ास असर नहीं पड़ा है.

फ़्रांस के प्रमुख अख़बार ला मोंड में छपे एक नए सर्वेक्षण के अनुसार स्ट्रॉस कान की सोशलिस्ट पार्टी अब भी मौजूदा राष्ट्रपति निकोला सारकोज़ी से बेहतर स्थिति में दिख रही है.

सर्वेक्षण के अनुसार अगर सोशलिस्ट पार्टी के पूर्व प्रमुख फ़्रांस्वा ओलांड को पार्टी राष्ट्रपति पद के लिए मनोनित करती है तो वे सारकोज़ी को हरा सकते हैं.

स्ट्रॉस कान को मिली ज़मानत

इससे पहले एक होटल में महिलाकर्मी के साथ बलात्कार के प्रयास के आरोप में गिरफ़्तार किए गए आईएमएफ़ के पूर्व प्रमुख डॉमिनीक स्ट्रॉस कान को न्यूयॉर्क की एक अदालत ने ज़मानत दे दी थी.

ग़ौरतलब है कि सोमवार को अदालत ने उन्हें ज़मानत देने से इनकार कर दिया था.

सुप्रीम कोर्ट के जज माइकल ओबस ने उन्हें दस लाख डॉलर की ज़मानत और नज़रबंदी की शर्त पर रिहा करने के आदेश दिए.

स्ट्रॉस कान ने गुरुवार को ही अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के प्रमुख के पद से इस्तीफ़ा दिया है.

उनके वकीलों ने अदालत से कहा कि उनके मुवक्किल एक प्रतिष्ठित व्यक्ति हैं और वे फ़रार होने की कोशिश नहीं करेंगे, लेकिन अभियोजन पक्ष के वकीलों ने ज़मानत दिए जाने का इस आधार पर विरोध किया था कि गत शनिवार को घटना के बाद स्ट्रॉस कान ने हड़बड़ी में भाग जाने का प्रयास किया था.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार