सीरिया में प्रदर्शनकारियों पर गोलीबारी

  • 20 मई 2011
सीमा इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption संयुक्त राष्ट्र के अनुसार अल कालाख़ पर बमबारी के कारण लगभग 4000 शरणार्थी भागकर लेबनान पहुँचे हैं

सीरिया के कई शहरों में शुक्रवार को ताज़ा सरकार विरोधी प्रदर्शन हुए हैं. होम्स और दमिश्क के बाहरी इलाक़े में सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों पर गोलियाँ चलाई हैं. अपुष्ट ख़बरों के अनुसार पाँच प्रदर्शनकारी मारे गए हैं.

शुक्रवार को जुमे की नमाज़ के बाद होम्स, बानियास, डेरा और क़ामिश्ली में राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन हुए हैं.

पिछले दो महीने में सीरिया में सरकार विरोधी प्रदर्शनों में 850 लोग मारे जा चुके हैं.

प्रदर्शनकारी राजनीतिक सुधारों की मांग कर रहे हैं और बशर अल असद के इस्तीफ़े की मांग कर रहे हैं. पिछले 40 साल से राष्ट्रपति बशर अल-असद का परिवार वहाँ सत्ता में बना हुआ है.

दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थियों के लिए एजेंसी का कहना है कि उसका मानना है कि पिछले कुछ हफ़्तों में लगभग 4000 लोग सीरिया से भागकर लेबनान में पहुँचे हैं.

एजेंसी के अनुसार वे सीरिया के तल कालाख़ शहर पर हो रही भीषण बमबारी के कारण वहाँ से भागे हैं.

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption हज़ारों लोग जुमे की नमाज़ के बाद सड़कों पर उतरे

लेकिन एक सीरियाई प्रवक्ता ने इसका खंडन किया है. उनका कहना है कि वहाँ तस्कर भर गए हैं और उनके और सुरक्षा बलों के बीच झड़पें हुई हैं.

हज़ारों सड़कों पर उतरे

सीरिया के अंदर पत्रकारों के रिपोर्टिंग करने पर प्रतिबंध है और जो जानकारी मिल रही है उसकी स्वतंत्र सूत्रों से पूष्टि कर पाना मुश्किल है.

सीरिया के तीसरे सबसे बड़े शहर होम्स में एक प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार सुरक्षा बलों ने भीड़ पर गोलियाँ चलाई हैं लेकिन कुछ अन्य शहरों में सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की है.

हज़ारों लोग सड़कों पर उतरे और बानियास शहर में सबसे बड़े प्रदर्शन हुए.

देश के पूर्वी भाग में कई पुलिस कारों और सत्ताधारी पार्टी के एक दफ़्तर को आग लगा दी गई.

ग़ौरतलब है कि सीरिया ने अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा पर आरोप लगाया है कि उन्होंने सीरिया में हिंसा भड़काने का प्रयास किया है.

राष्ट्रपति ओबामा ने गुरुवार को एक अहम भाषण में कहा था कि या तो राष्ट्रपति असद लोकतांत्रिक सुधारों का नेतृत्व करे या फिर सत्ता से हट जाएँ.

महत्वपूर्ण है कि मानवाधिकार के उल्लंघन की गंभीर शिकायतों के बाद अमरीका ने सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद के ख़िलाफ़ आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए हैं.

सीरियाई सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर कार्रवाई की वजह से बशर अल-असद को अंतरराष्ट्रीय समुदाय की ओर से पहली बार निशाना बनाया गया है.

राष्ट्रपति बराक ओबामा ने पिछले महीने उनके भाई माहेर, उनके चचेरे भाई और ख़ुफ़िया विभाग के प्रमुख के ख़िलाफ़ आर्थिक प्रतिबंध लगाए थे.

संबंधित समाचार