मिसराता में सामूहिक बलात्कार

ग़द्दाफ़ी सैनिक इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ग़द्दाफ़ी समर्थकों ने मिसराता में इंसानियत को शर्मसार किया

हाल ही में ऐसे सबूत मिले हैं कि कर्नल ग़द्दाफ़ी के आदेश पर उनके वफ़ादार सैनिकों ने मिसराता में महिलाओं और नाबालिग लड़कियों के साथ सामूहिक बलात्कार किए हैं.

मिसराता पर विद्रोहियों का क़ब्ज़ा हो जाने के बाद बलात्कार की शिकार महिलाएं यौन रोगों की आशंकाओं की जांच करवाने के लिए बाहर निकली, तब यह तथ्य सामने आ पाए हैं.

हालांकि महिलाएं अब भी इतनी डरी हुई हैं कि खुले तौर पर कुछ भी कहने से कतराती हैं, लेकिन डॉक्टरों और पत्रकारों को उन्होंने इस बारे में जानकारी दी है.

नेटो सेना की मदद से विद्रोहियों ने कई हफ्तों तक मिसराता पर काबिज़ कर्नल ग़द्दाफ़ी की सेना को शहर से बाहर खदेड़ दिया था.

लेकिन अब ये सामने आया है कि कर्नल ग़द्दाफ़ी के वफ़ादार सैनिकों के हाथों मिसराता शहर का ध्वंस ही नहीं हुआ नहीं बल्कि इंसानियत भी शर्मसार हुई है.

मिसराता में मौजूद ब्रिटेन के संडे टाइम्स अख़बार की पत्रकार मरी कौल्विन ने बीबीसी को बताया कि किस तरह दो महीने तक कर्नल ग़द्दाफ़ी के सैनिकों ने महिलाओं और नाबालिग लड़कियों का यौन उत्पीड़न किया.

मरी कौल्विन का कहना था कि ग़द्दाफ़ी के सैनिक मिसराता शहर में लगभग दो महीने तक मौजूद थे और वहीं स्थानीय लोगों के घरों में रह रहे थे.

सामूहिक बलात्कार

उन सैनिकों और बलात्कार की शिकार महिलाओं के डॉक्टरों से बात करने के बाद ये सपष्ट हुआ कि उन घरों की महिलाओं का सामूहिक बलात्कार हुआ है.

मरी कौल्विन का कहना था, "उन सैनिकों ने परिवार के अन्य सदस्यों के सामने महिलाओं को निर्वस्त्र किया और उसके बाद उनका बार बार बलात्कार किया. एक घर में लगभग 20 सैनिकों ने ऐसी नाबालिग लड़कियों का बलात्कार किया, जिनमें सबसे छोटी लड़की की उम्र सिर्फ़ 14 साल थी."

मरी कौल्विन ने ये भी बताया कि सैनिकों ने न केवल यह सारा ब्यौरा दिया बल्कि यह भी बताया कि उन्हें बलात्कार करने के आदेश कर्नल ग़द्दाफ़ी से मिले थे.

मरी कौल्विन ने रौंगटे खड़े कर देने वाली इन वारदातों का वीडियो भी देखा.

उनका कहना था कि एक वीडियो उन्होंने अपनी आंखों से देखा, ये सुनिश्चित करने के लिए कि यह कोरे क़िस्से तो नहीं.

मरी ने बताया कि वीडियो बेहद शर्मनाक़ था, ग़द्दाफ़ी के सैनिक यह कुकृत्य करते हुए अपने मोबाइल फ़ोन्स पर एक दूसरे के वीडियो बना रहे थे.

यह फ़ोन मृत या ज़ख़्मी सैनिकों से बरामद किए गए थे.

अपनी आंखों से देखे गए वीडियो के बारे में मरी कौल्विन का कहना था, "ग़द्दाफ़ी के 20 सैनिक एक घर में माता पिता के सामने ही चार छोटी लड़कियों के कपड़े उतार कर उन्हें भीतर के कमरे में ले गए."

मिसराता के एक अस्पताल की एक डॉक्टर ने बताया कि लगभग एक हज़ार महिलाएं बलात्कार की शिकार हुई है.

बलात्कार कि शिकार अन्य महिलाओं को भी डॉक्टर आगे आकर अपना इलाज करवाने की सलाह दे रहे हैं.

लेकिन माना जा रहा है कि बलात्कार की शिकार कई महिलाएं और उनके परिवार समाज में कलंकित होने के डर से चुप्पी साधे हुए हैं.

संबंधित समाचार