पश्चिम अभी भी दुनिया का नेताः ओबामा

बराक ओबामा इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption ब्रिटिश संसद के दोनों सदनों को संबोधित करनेवाले पहले अमरीकी राष्ट्रपति

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि नई शक्तियों के उदय के बावजूद दुनिया में अमरीका और यूरोप का प्रभाव अभी भी बरक़रार है.

ब्रिटेन की संसद में दिए गए अपने भाषण में ओबामा ने इस दलील को ख़ारिज कर दिया कि चीन और भारत जैसे देशों का उदय अमरीका और यूरोप के प्रभाव का अंत है.

उन्होंने कहा कि अमरीका और यूरोप में उसके सहयोगी इस शताब्दी में ‘अपरिहार्य’ बने रहेंगे.

ओबामा ने कहा,"शायद ये दलील दी जाती रहती है कि ये देश भविष्य के प्रतिनिधि हैं और हमारे नेतृत्व का समय समाप्त हो गया. ये दलील ग़लत है. हमारे नेतृत्व का सही समय अभी है".

ब्रिटेन की तीन दिन की यात्रा पर आए ओबामा एक हज़ार साल पुराने वेस्टमिंस्टर हॉल में संसद के दोनों सदनों को संबोधित करनेवाले पहले अमरीकी राष्ट्रपति हैं.

लेकिन उन्होंने साथ ही कहा कि पश्चिम को मध्य पूर्व में उसपर संदेह और दिखावा करने के आरोपों से उबरना होगा और ये दिखाना होगा कि कोई समाज तभी सफल होता है जब लोग स्वतंत्र होते हैं.

अपने दौरे के दूसरे दिन ओबामा ने संसद को संबोधित करने से पहले ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से मुलाक़ात की.

शाम को उन्होंने लंदन में अमरीकी राजदूत के निवास पर महारानी के लिए रात्रिभोज आयोजित किया है.

मध्य पूर्व

अपने दौरे के दूसरे दिन संसद में अपने भाषण से पहले अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि उन्हें पूरा विश्वास है कि इसराइल और फ़िलीस्तीनियों के बीच शांति समझौता हो सकता है.

हालाँकि उन्होंने कहा कि इसके लिए दोनों पक्षों को अप्रिय समझौते करने पड़ेंगे.

ओबामा ने लंदन में ब्रिटिश प्रधानमनंत्री डेविड कैमरन के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में फ़िलीस्तीनियों के संयुक्त राष्ट्र के ज़रिए पहचान हासिल करने की उनकी योजना को एक भूल बताया.

इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यमिन नेतन्याहू ने मंगलवार को वाशिंगटन में अमरीकी संसद में कहा कि वे शांति के लिए पीड़ादायक समझौते करने के लिए तैयार हैं.

ब्रिटिश प्रधानमंत्री कैमरन ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को मध्य पूर्व में लोकतांत्रिक आंदोलनों को समर्थन देने के मौक़े को नहीं गँवाना चाहिए.

संबंधित समाचार