रात्को म्लाडिच को 'बचाने वालों' की जांच होगी

रात्को म्लाडिच इमेज कॉपीरइट AP
Image caption बाईं तरफ़ म्लाडिच की नब्बे के दशक की तस्वीर है. एक सर्बिआई अख़बार के अनुसार दाईं की ओर की तस्वीर गिरफ़्तारी के समय की है.

सर्बिया के राष्ट्रपति बॉरिस टाडिच ने कहा है कि गिरफ्ता़र किए गए पूर्व सैन्य कमांडर रात्को म्लाडिच को पिछले 16 वर्षों में गिरफ़्तारी से बचाने वालों की जाँच होगी.

बॉरिस टाडिच ने बीबीसी को बताया है कि जिन लोगों ने रात्को म्लाडिच को शरण दी उन सभी के खिलाफ़ कार्रवाई होगी.

सर्बिया के राष्ट्रपति ने ये भी कहा है कि तमाम विरोध के बावजूद युद्ध अपराधों के आरोप में जनरल रात्को म्लाडिच को हेग की अंतरराष्ट्रीय युद्धापराध ट्राइब्यूनल में प्रत्यार्पित भी किया जाएगा.

1992-95 तक चले बोस्निया युद्ध में अपराधों के लिए गुरूवार को रात्को म्लाडिच को गिरफ़्तार किया गया था.

हालांकि रात्को म्लाडिच का परिवार और उनके वकील कहते रहे हैं कि अस्वस्थ होने के कारण उन्हें हेग की अंतरराष्ट्रीय युद्धापराध ट्राइब्यूनल में प्रत्यार्पित करना ग़लत होगा.

लेकिन रात्को म्लाडिच को प्रत्यर्पण के लिए स्वस्थ घोषित कर दिया गया है.

रिश्तेदारों की भूमिका

सर्बिया के राष्ट्रपति ने बीबीसी को बताया है कि जांच में ये भी पता लगाया जाएगा कि रात्को म्लाडिच को सर्बिया की सेना या पुलिस से तो कोई मदद नहीं मिली है.

बॉरिस टाडिच ने कहा कि सर्बिया में ही नहीं बल्कि रात्को म्लाडिच के रिश्तेदार और दोस्त बोस्निया, मैसिडोनिया और कई अन्य देशों में फैले हुए हैं.

उन्होंने ये भी कहा कि रात्को म्लाडिच को शुरूआती दिनों में सरकारी अधिकारियों से भी मदद मिली थी लेकिन स्लोबोडान मिलोचेविक के 2000 में सत्ता से हटने के बाद बंद भी हो गयी थी.

उन्होंने कहा कि 2004 में सत्ता संभालने के बाद से उनकी सरकार ने भी रात्को म्लाडिच की खोज जारी कर दी थी लेकिन रात्को म्लाडिच के दोस्त-रिश्तेदारों के चलते वे अभी तक सफल नहीं हो सके थे.

गिरफ़्तारी

गुरूवार को पंद्रह साल से गिरफ़्तारी से बचते फिर रहे सर्बियाई सैन्य कमांडर रात्को म्लाडिच को उत्तरी सर्बिया के एक गाँव से गिरफ़्तार किया गया था.

रात्को म्लाडिच इस गाँव में अपने एक रिश्तेदार के घर पर पहचान बदल कर रह रहे थे.

गिरफ़्तारी के चंद घंटों बाद ही रात्को म्लाडिच को सर्बिया की एक अदालत में पेश किया गया.

गिरफ़्तारी के तुरंत बाद सर्बिया के राष्ट्रपति बोरिस टाडिच ने कहा था कि रात्को म्लाडिच की गिरफ़्तारी के बाद सर्बिया के लिए यूरोपीय संघ में सदस्यता के दरवाज़े खुल जाएंगे.

संबंधित समाचार