नवलखा कश्मीर पुलिस की हिरासत में

कश्मीर इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कश्मीर में पिछले दो दशकों से अलगाववादी आंदोलन जारी है

मानवाधिकार कार्यकर्ता गौतम नवलखा को पुलिस ने भारत प्रशासित राज्य जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर के हवाई अड्डे पर हिरासत में ले लिया है.

नवलखा एक निजी यात्रा पर कश्मीर पहुँचे थे कि हवाई अड्डे पर ही पुलिस ने उन्हें रोक लिया और बताया कि वो शहर में दाख़िल नहीं हो सकते.

उन्होंने हवाई अड्डे से ही मोबाइल फ़ोन के ज़रिए बीबीसी को बताया, “पुलिस ने एक लिखित आदेश मुझे दिखाया जिसके मुताबिक़ मुझे धारा 144 के तहत रोका गया है.”

गौतम नवलखा ने कहा, “पुलिस के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ मैं अदालत जाऊँगा और मुझे उम्मीद है कि अदालत इस पर सख़्त रुख़ अपनाएगी.

'भयग्रस्त शासक'

उन्होंने कहा, “पिछले 22 साल से मैं कश्मीर आता रहा हूँ. उस दौर में भी जब माहौल गरमाया हुआ था और सेना का दमन जारी था... लेकिन मुझे कभी रोका नहीं गया.”

उन्होंने कहा कि “छोटे लोग बड़ी बड़ी कुर्सियों में बैठे हैं वो हमेशा भयग्रस्त रहते हैं. मैं (कश्मीर के बारे में) जो कहता और लिखता हूँ उसके बारे में वो बहुत ख़ूबसूरती से कह देते हैं कि मैं देशद्रोही गतिविधियों में शामिल हूँ. मेरी नज़र में ये उनकी ही कमज़ोरी है.”

श्रीनगर से बीबीसी संवाददाता रियाज़ मसरूर ने बताया है कि ज़िला प्रशासन ने गौतम नवलखा के आने से शहर में शांति भंग होने का ख़तरा बताया और इस वजह से उन्हें हिरासत में लिया गया.

नवलखा ने बताया, "पुलिस ने हमें लौटने का आदेश दिया और अब कल हमें दिल्ली की उड़ान पकड़नी पड़ेगी."

संबंधित समाचार