'जबरन सेक्स का आरोप ग़लत'

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption न्यूयॉर्क की अदालत में स्ट्रॉस-कान की पत्नी भी उनके साथ थीं.

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के पूर्व प्रमुख डॉमिनिक स्ट्रॉस-कान ने न्यूयॉर्क की अदालत के सामने बलात्कार और सेक्स के मामले में निर्दोष होने की दलील पेश की है.

फ़्रांस के नागरिक कान पर 14 मई को न्यूयॉर्क के मैनहैटन होटल की एक महिला कर्मचारी के साथ जबरन सेक्स की कोशिशों का आरोप है.

महिला के वकील ने अदालत के बाहर कहा कि “उसे न्याय चाहिए.”

वहीं स्ट्रॉस-कान के वकील का कहना है दोनों पक्षों के बीच किसी तरह की ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं हुई थी.

अब अगली सुनवाई 18 जुलाई को होगी.

स्ट्रॉस-कान को यदि दोषी पाया गया तो उन्हें 25 साल तक की जेल हो सकती है.

अदालत में उनकी पत्नी ऐन सिंक्लेयर भी मौजूद थीं. वो फ्रांस में एक टेलीविज़न पत्रकार हैं.

जब दोनों अदालत पहुंचे तो वहां मौजूद मैनहैटन होटल के कर्मचारियों ने अपनी सहयोगी के साथ एकजुटता दिखाते हुए “शर्म करो” के नारे लगाए.

उस महिला कर्मचारी की पहचान सार्वजनिक नहीं की गई है लेकिन इतना पता चला है कि वो 32-वर्षीय महिला है और वो मूलत: पश्चिमी अफ़्रीका से है.

उनके वकील ने अदालत के बाहर कहा, “ये एक बेकसूर महिला के साथ जबरन सेक्स का मामला है. वो अदालत आएगी और सच बोलेगी. वो न्याय चाहती है..वो प्रचार नहीं चाहती.”

ये सुनवाई अभी लंबी चल सकती है.

न्यूयॉर्क पुलिस ने स्ट्रॉस-कान को तब गिरफ़्तार किया था जब वो पेरिस जाने वाले विमान में बैठ चुके थे.

उन पर सात आरोप लगाए गए हैं जिनमें बलात्कार की कोशिश, सेक्स के उद्देश्य से हमला, यौन दुराचार शामिल हैं.

ज़मानत मिलने से पहले उन्हें चार दिन जेल में रहना पड़ा था.

फ़िलहाल उन्हें मैनहैटन की एक इमारत में नज़रबंद रखा गया है.

वो अपने पद से भी इस्तीफ़ा दे चुके हैं.

संबंधित समाचार