इतिहास के पन्नों से

इतिहास के पन्नों में झांकें तो पाएगें कि जून 11 के दिन फ़्रांस के ले मा रेसिंग ट्रैक के किनारे एक हादसे में 77 लोग मारे गए थे. इसी दिन मर्गेर्ट थेचर ने सत्ता में लगातार तीसरी बार वापसी की थी.

1955 : ले मा हादसे में 77 की मौत

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption दो कारें आपस में टकरा गईं और नज़दीक दर्शकों के बीच में घुस गईं

साल 1955 में जून 11 को फ़्रांस के लेमा कार रेसिंग ट्रैक के किनारे हुए एक दर्दनाक हादसे में 77 लोगों की मौत हो गई थी. मृतकों में ज़्यादातर लोग दर्शक थे.

हुआ दरअसल ये था कि ट्रैक पर दौड़ के दौरान दो कारें आपस में टकरा गईं और नज़दीक खड़े दर्शकों के बीच में घुस गईं.

दुर्घटना के बाद अधिकारियों की तरफ से तुरंत कोई घोषणा नहीं की गई और रेस चलने दी गई. रेस ट्रैक के दूसरी तरफ खड़े दर्शकों घंटों बाद दुर्घटना का पता लगा.

घटना के बाद जांच में पता लगा की दर्शकों और ट्रैक के बीच में पर्याप्त दूरी नहीं थी और सुरक्षा के इंतजाम भी पर्याप्त नहीं थे.

इस दुर्घटना के बाद मर्सडीज़ कंपनी ने जिसकी की कार की वजह से ये हादसा हुआ था उसने दौड़ों में भाग लेना बंद कर दिया. मर्सडीज़ की रेसिंग कार साल 1987 में जा कर रेस पुनः वापसी की.

स्विट्ज़रलैंड ने इस घटना के बाद अपने देश में कर रेसिंग पर प्रतिबंध लगा दिया जिसे साल 2007 में जा कर खोला गया.

1959 : होवरक्राफ्ट का आविष्कार

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption क्रिस्टोफर कौकेरेल ने होवरक्राफ्ट का आविष्कार किया था

साल 1959 में इसी दिन इंग्लैण्ड के दक्षिणी किनारे पर होवरक्राफ्ट को दुनिया के सामने पेश किया गया. होवरक्राफ्ट को एक हवाई जहाज़, एक नाव और एक ज़मीनी गाड़ी का मिलाजुला रूप बताया गया.

क्रिस्टोफर कौकेरेल में 1950 के दशक के मध्य में इस प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू किया था. इसके इजाद होने के बाद ऐसी उम्मीद जताई गई कि ये भविष्य में इंग्लिश चैनल को 20 मिनट में पार कर लेगा. होवरक्राफ्ट का इस्तेमाल अभी भी दुनिया के कई हिस्सों में होता है.

1987 : थेचर की लगातार तीसरी बार सत्ता में वापसी.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption 160 सालों में थेचर लगातार तीसरी बार सत्ता में लौटने वाली पहली प्रधानमंत्री थीं.

साल 1987 में जून 11 के ही दिन मारग्रेट थेचर के नेतृत्व में कंज़र्वेटिव पार्टी लगातार तीसरी बार सत्ता में लौटी थी. करीब 160 सालों के संसदीय इतिहास में वो लगातार तीसरी बार सत्ता में लौटने वाली पहली प्रधानमंत्री थीं.

जीत के बाद नतीजों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए थेचर ने कहा कि वो काम पर वापस लौटने के लिए अधीर हो रही हैं.

उन्होंने कहा कि जितनी बड़ी जीत उतनी बड़ी ज़िम्मेदारी. नई सरकार से अपेक्षा की गई कि वो जल वितरण, बिजली वितरण और हवाई अड्डों का निजीकरण जल्द ही करेगी.

संबंधित समाचार