मुंबई हमलों में दोषी नहीं राणा

तहव्वुर राणा
Image caption मुंबई हमलों से आईएसआई के तार जुड़े होने के बारे में जानकारियाँ सामने आने की संभावना

अमरीका में शिकागो की ज्यूरी ने व्यवसायी तहव्वुर राणा को 2008 के मुंबई हमलों की साज़िश में मदद करने का दोषी नहीं पाया है. लेकिन उन्हें लश्करे-तैबा का समर्थन करने का दोषी पाया है जिसे कथित रूप से मुंबई हमलों के लिए दोषी ठहराया जा रहा है.

इसके अलावा उन्हें डेनमार्क के एक अख़बार पर विफल बम हमले में मदद करने के लिए दोषी करार दिया गया है. इस अख़बार ने पैगंबर मोहम्मद के कार्टून छापे थे. अभी उन्हें सज़ा नहीं सुनाई गई है. राणा की तीस साल तक की जेल की सज़ा हो सकती है.

ज्यूरी ने 23 मई को शुरू हुए मुक़दमे की सुनवाई ख़त्म होने के बाद तहव्वुर के मामले पर विचार-विमर्श किया और गुरुवार को अपना फ़ैसला सुनाया.

राणा पर 2008 के मुंबई हमले की साज़िश में भागीदार होने का आरोप था. मुंबई हमलों में 160 से ज़्यादा लोग मारे गए थे जिसमें छह अमरीकी नागरिक भी शामिल थे.

संवाददाताओं का कहना है कि इस मुक़दमे के दौरान पाकिस्तानी चरमपंथी संगठन लश्करे-तैबा के तौर तरीकों के बारे में कई जानकारियाँ मिली हैं.

कौन हैं तहव्वुर राणा

पाकिस्तान में पले-बढ़े तहव्वुर हुसैन राणा चिकित्सा की डिग्री लेने के बाद पाकिस्तान सेना के मेडिकल कोर से जुड़ गए.

50 साल के राणा उनकी पत्नी दोनों ने 2001 में कनाडा की नागरिकता ले ली थी. उनकी पत्नी भी चिकित्सक हैं. वर्ष 2009 में गिरफ़्तारी से पहले राणा अमरीका के शिकागो शहर में रह रहे थे. वह ट्रैवल एजेंसी समेत कई व्यवसायों से जुड़े हुए थे.

कौन है डेविड हेडली

तीन साल पहले राणा ने बचपन के अपने दोस्त डेविड हेडली को मुंबई में अपनी ट्रैवल एजेंसी की शाखा खोलने में मदद की. आरोप था कि इस व्यवसाय का मुख्य उद्देश्य मुंबई हमलों के लिए लक्ष्यों की टोह लेना था.

हेडली पहले ही मुंबई हमलों की साज़िश में शामिल होने की बात स्वीकार कर चुके हैं. हेडली ने चरमपंथी संगठन लश्करे तैबा और पाकिस्तानी ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई से संबंध होने की भी बात स्वीकार की है.

राणा पर कुल मिला कर 12 आरोप लगाए गए थे जिनमें अमरीकी नागरिकों की हत्या में सहायक होने का आरोप शामिल था.

राणा और हेडली को अक्तूबर 2009 में डेनमार्क के अख़बार यलैंड्स पोस्तेन के कार्यालयों पर हमले की योजना बनाने के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था. गिरफ़्तारी के बाद हुई पूछताछ के दौरान संकेत मिले कि दोनों मुंबई हमलों की साज़िश में भी कथित तौर पर शामिल हो सकते हैं.

संबंधित समाचार