स्तन में सिलिकॉन लगाया जाना सुरक्षित: एफ़डीए

Image caption एफ़डीए के अनुसार दुनियाभर में अब तक 50 लाख से एक करोड़ महिलाओं ने स्तन में सिलिकॉन इम्प्लांट करवाया है.

अमरीकी दवा नियामक संस्था का कहना है कि कैंसर के एक प्रकार के ख़तरे और कुछ अन्य दिक्कतों के बावजूद स्तन में सिलिकॉन का लगाया जाना अपेक्षाकृत सुरक्षित है.

द फूड एंड ड्रग एडमिनेस्ट्रेशन यानी एफ़डीए के मुताबिक इससे कैंसर का एक प्रकार - लिमफोमा होने की संभावना बढ़ जाती है.

एफ़डीए की नई रिपोर्ट में कहा गया है कि ये जानकारी आसानी से उपलब्ध है.

रिपोर्ट के मुताबिक स्तन में सिलिकॉन इम्प्लांट करवाने की चाहत रखने वाली महिलाएं ऐसा कदम जानते बूझते ही उठाती हैं.

बुधवार को एफ़डीए ने 63 पन्नों की अपनी एक रिपोर्ट जारी की. इसमें महिलाओं के स्तन में किए गए सिलिकॉन इंप्लांट से होने वाले प्रभावों पर अध्ययन शामिल हैं.

एजेंसी के मुताबिक ये भी पाया गया है कि जिन महिलाओं ने स्तन में सिलिकॉन इम्प्लांट करवाया है उनमें पांच में से एक महिला ने दस साल के भीतर ये हटवा लिया था.

सिलिकॉन इम्प्लांट से ख़तरा

1992 में एफ़डीए के पास स्तन में लगाए जाने वाले सिलिकॉन इम्प्लांट्स के बारे में शिकायतें सामने आईं, जिसके बाद ये बाज़ार से नदारद हो गए.

इन शिकायतों में इंप्लांट में क्षति और सिलिकॉन का रिसाव शामिल था.

इसके बाद एजेंसी ने नमक के घोल से बने हुए इम्प्लांट को बाज़ार में रहने की अनुमति दे दी. हालांकि इसके वितरण पर नियंत्रण रखा गया.

एक लंबे अंतराल के बाद अमरीका ने महिलाओं के स्तन में सिलिकॉन इम्प्लांट करवाने को साल 2006 में मंज़ूरी दी.

इमेज कॉपीरइट SPL
Image caption स्तन प्रतिरोपण ने लिमफोमा का बीमारी का ख़तरा रहता है

दो कंपनियों को 22 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं के लिए इम्प्लांट बनाने की स्वीकृति दी गई.

इस अध्ययन में उन दो कंपनियों की रिपोर्ट को भी शामिल किया गया था.

एफ़डीए की रिपोर्ट में पाया गया कि सिलिकॉन इम्प्लांट और इससे जुड़ी टिशु यानि ऊतक की बीमारी, स्तन कैंसर या प्रजनन संबंधी बीमारी में कोई रिश्ता नहीं है.

लेकिन उन्होंने लिम्फ़ोमा का ख़तरा होने की बात ज़रूर मानी है.

इस इम्प्लांट से कुछ दिक्कतें जैसे, इम्प्लाट में नुक़सान, झुर्रियां, निशान, दर्द और संक्रमण हो सकता है.

रिपोर्ट के अनुसार इन दिक्कतों का ख़तरा समय के साथ-साथ बढ़ता चला जाता है.

एफ़डीए ने महिलाओं को चेताया भी कि स्तन में सिलिकॉन जीवन भर नहीं लगाया जा सकता. जितना ज़्यादा आप इस इम्प्लांट को लगा कर रखेंगे उतना ही आप उसे हटाना भी चाहेंगे.

संबंधित समाचार