सीरिया: सरकार विरोधियों ने दमिश्क में सम्मेलन बुलाया

  • 26 जून 2011
सीरिया इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption पिछले तीन महीने के सरकार विरोधी प्रदर्शनों में 12 हज़ार से अधिक लोग मारे गए हैं

सीरिया के उत्तर-पश्चिमी भाग में जहाँ एक ओर सैनिकों ने टैंकों की मदद से तुर्की और लेबनान की सीमा के पास कार्रवाई तेज़ कर दी है वहीं सरकार के विरोधी सोमवार को राजधानी दमिश्क में एक सम्मेलन आयोजित करने की योजना बना रहे हैं.

इस सम्मेलन का मक़सद तीन महीने से जारी विरोध प्रदर्शनों और उनसे पैदा हुए राजनीतिक संकट का हल खोजने के बारे में चर्चा करना है.

ट्यूनिशिया और मिस्र में सरकार विरोधी प्रदर्शनों और सत्ता परिवर्तन के बाद सीरिया में तीन महीनों से जारी प्रदर्शनकारियों के दौरान कम से कम 1300 प्रदर्शनकारियों के मारे जाने की ख़बर है.

प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति बशर अल असद का विरोध कर रहे हैं और राजनीतिक सुधारों की मांग कर रहे हैं. असद परिवार पिछले 40 साल से वहाँ सत्ता में बना हुआ है.

बेरूत में मौजूद बीबीसी संवाददाता जिम मोयर के अनुसार, "मार्च में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के शुरु होने के बाद पहली बार सरकार के अनेक विरोधी और बुद्धिजीवी सोमवार को राजधानी दमिश्क में सम्मेलन आयोजित करने की तैयारी कर रहा हैं."

जिम मोयर का आकलन है, "आयोजकों का कहना है कि सरकार ने सम्मेलन आयोजित करने पर प्रतिबंध नहीं लगाया है. यदि ये सम्मेलन संभव होता है तो यह सत्ता पक्ष का विरोध बर्दाश्त करने के बारे में सहनशीलता का संकेत होगा. सरकार ने एक व्यापक सुधार कार्यक्रम तैयार करने के प्रयासों का दावा किया है."

कार्यकर्ताओं ने कहा -'दस मारे गए'

उधर सीरिया में सरकार विरोधी कार्यकर्ताओं का कहना है कि प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ जारी सैन्य अभियान में कम से कम दस लोग मारे गए हैं.

इनमें राजधानी दमिश्क के दक्षिणी इलाक़े किसवेह में मारा गया एक 12 वर्षीय लड़का शामिल है.

दमिश्क के पास स्थित बारज़ेह के निवासियों का कहना है कि अनेक लोगों को गिरफ़्तार किया गया है और वहाँ कर्फ़्यू लगा हुआ है. वहाँ हाल में एक व्यक्ति मारा गया था.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सीरिया में सरकार के विरोधी सत्ता में बदलाव और राजनीतिक सुधारों की मांग कर रहे हैं

उस इलाक़े में पानी की सप्लाई रोक दी गई है.

होम्स शहर में पहले तीन लोग मारे गए थे और अब दो अन्य लोगों के शहर के केंद्रीय भाग में मारे जाने की ख़बर है.

उत्तरी शहर हामा में दो और पूर्वी शहर अल जोऊर में दो लोग मारे गए हैं.

राष्ट्रपति बशर अल असद ने इस हिंसा के लिए अज्ञात बंदूकधारियों को दोषी ठहराया है.

दूसरी ओर सीरिया और तुर्की की सीमा पर अल नाजिया गांव पर सैनिकों ने टैंकों से हमला किया है. वहाँ से 12 हज़ार लोग तुर्की में भाग गए हैं और सरकार के किसी तरह की हिंसक कार्रवाई न करने के आश्वासन के बावजूद लौटने के लिए तैयार नहीं हैं.

दक्षिणी भाग में सीरिया और लेबनान की सीमा पर अल क़ूसिर नगर पर सुरक्षा बलों और सरकार समर्थित सशस्त्र बलों ने हमले किए हैं और अनेक लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार