ब्रिटेन-चीन में व्यापार समझौता

वेन जियाबाओ और डेविड कैमरॉन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption व्यापार बढ़ाने पर भी सहमति हुई है

ब्रिटेन और चीन के बीच क़रीब दो अरब डॉलर का व्यापार समझौता हुआ है और व्यापार दायरा 2015 तक 160 अरब डॉलर करने का संकल्प किया गया है.

दोनों देशों की कंपनियों के बीच हुए इन समझौतो के बाद 10 डाउनिंग स्ट्रीट में आयोजित संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में दोनों नेताओं ने कहा कि उनका लक्ष्य 2015 तक दोनों देशों के बीच व्यापार का दायरा 160 अरब डॉलर तक पहुँचाना है.

दोनों नेताओं के बीच चीन में मानवाधिकारों की स्थिति पर भी चर्चा हुई. प्रधानमंत्री डेविड कैमरॉन ने चीन में मानवाधिकारों की स्थिति का ज़िक्र करते हुए कहा कि चीन में मानवाधिकारों की स्थिति पर हम ब्रिटेन और चीन के बीच बातचीत का नया रास्ता बनते देखना चाहते हैं.

"चीन और ब्रिटेन भिन्न इतिहास और पृष्ठभूमि वाले भिन्न देश हैं और हम इस भिन्नता का सम्मान करते हैं. लेकिन हमारा विश्वास है कि नागरिक समाज का विकास, मानवाधिकारों का सम्मान और क़ानून का शासन सुनिश्चित करने से विकास और सुरक्षा मज़बूत होते हैं और हम सबकी समृद्धि का रास्ता पक्का होता है."

उधर वेन जियाबाओ ने कहा कि मानवाधिकारों की स्थिति पर दोनों देशों को एक दूसरे पर उंगली उठाने के बजाय एक दूसरे के साथ सहयोग करना चाहिए.

उन्होंने कहा, "मानवाधिकार मुद्दे पर चीन और ब्रिटेन को एक दूसरे का और तथ्यों का सम्मान करना चाहिए और एक दूसरे के साथ बराबरी के स्तर पर बर्ताव करना चाहिए. दोनों देशों को एक दूसरे पर उंगली उठाने के बजाय आपस में सहयोग करना चाहिए. आपसी मतभेदों को बातचीत के ज़रिए दूर करना चाहिए और आपसी समझ को बढ़ाना चाहिए."

लीबिया

लीबिया की स्थिति पर चीनी प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी राय में लीबिया के मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों और प्रावधानों के अनुसार सुलझाना चाहिए.

उन्होंने कहा, "लीबिया पर चीन का रुख़ बिल्कुल स्पष्ट है कि संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव संख्या 1973 पर लीबिया सहित तमाम संबद्ध देश पूरी तरह से अमल करें. साथ ही चीन का ये भी विश्वास है कि किसी भी देश की समस्याओं का हल निकालने के प्रयास वहाँ के लोगों के प्रयासों पर आधारित होने चाहिए."

"हम उम्मीद करते हैं कि लीबिया के मुद्दे को राजनीतिक और शांतिपूर्ण तरीक़े से हल कर लिया जाएगा जिसमें मानवीय नुक़सान को कम किया जा सके."

वेन जियाबाओ ने अपनी इस यात्रा के दौरान ब्रिटेन वासियों को एक ग़ैर राजनीतिक अच्छी ख़बर देते हुए कहा कि वो एक पांडा जोड़ा एडिनबरा चिड़ियाघर को भेंट करेंगे और ये जोड़ा इस वर्ष के अंत तक यहाँ पहुँच जाएगा.

ब्रिटेन और चीन के बीच राजदूत स्तर पर कूटनीतिक संबंध संबंध शुरू होने की चालीसवीं वर्षगाँठ अगले वर्ष मनाई जाएगी.

संबंधित समाचार