इतिहास के पन्नों से

  • 30 जून 2011
बंधकों
Image caption रिहा हुए बंधकों ने अमरीका पहुँच कर संतोष व्यक्त किया था

इतिहास के पन्नों को पलटा जाए तो 1985 में 30 जून को ही बेरुत में अमरीकी बंधक रिहा हुए थे जबकि 1971 में इसी दिन अंतरिक्ष से लौटने वाले तीन रूसी अंतरिक्ष यात्री अपने स्पेस शटल में मृत पाए गए थे.

1985: बेरुत में अमरीकी बंधक रिहा हुए

तीन हफ़्तों तक कब्ज़े में रहने के बाद 30 जून को ही लेबनान में 39 अमरीकी बंधक रिहा हुए थे.

इन लोगों को शिया मुस्लिम अमल लड़ाकों ने बंधक बना रखा था. सीरिया के राष्ट्रपति हाफिज़-अल-असद ने मामले में हस्तक्षेप किया था.

अमरीकी सरकार ने रिहाई के बाद कहा था कि बंधकों को छुड़ाने के लिए लड़ाकों से कोई समझौता नहीं किया गया.

रिहा किए गए बंधकों को बेरुत से सीरिया की राजधानी दमिश्क तक रेड क्रॉस के एक काफ़िले में ले जाया गया.

रिहाई के सत्रह दिन पहले इन बंधकों के हवाई जहाज़ का इस्लामी जिहाद ग्रुप के दो गुटों ने अपहरण कर लिया था.

रिहा हुए कुछ बंधकों ने अमल लड़ाकों के अच्छे बर्ताव की भी बात कही थी और कहा था कि लड़ाकों ने उनकी ठीक तरह से देखभाल की.

रिहाई के बाद अमरीका ने कहा था कि उसे अगवा करने वाले दो अपहरणकर्ताओं के बारे में पता चल गया है लेकिन इन दोनों के ख़िलाफ़ कभी कोई कार्रवाई नहीं हुई.

1971: अंतरिक्ष अभियान में हुआ हादसा

Image caption सोयूज़ यानों के हादसों ने रूस की चिंता बढ़ा दी थी

30 जून को ही अंतरिक्ष से लौटने वाले तीन रूसी अंतरिक्ष यात्रियों के शव कज़ाकिस्तान में उतरे उनके अंतरिक्ष कैप्सूल में पाए गए.

हालांकि माना यही जा रहा था कि इस अंतरिक्ष कैप्सूल की लैंडिंग बेहतरीन और सुरक्षित रही थी.

जिओर्जी दोबरोव्सकी, व्लादिस्लाव वोल्कोव और विक्टर पट्सायेव अपनी-अपनी कुर्सियों में मृत अवस्था में पाए गए थे.

हालांकि इन अंतरिक्ष यात्रियों के शरीर पर किसी शारीरिक क्षति या चोट के निशान नहीं थे.

सोवियत संघ की सरकार ने मामले की जांच कराए जाने के आदेश दे दिए और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया.

जानकारों का कहना था कि मौत का सबसे ज्यादा संभावित कारण ऑक्सीजन की कमी हो सकती है.

इस दल ने अंतिरक्ष में 24 दिन बिताए थे जो उस समय का एक रिकॉर्ड था.

ये हादसा उस बीच हुआ जब सोयूज़ अंतरिक्ष विमानों में आ रही ख़ामियों की बात हो रही थी.

कहा गया था कि इस तरह की दुर्घटनाएं रूसी अंतरिक्ष कार्यक्रम को नुक़सान पहुंचा सकतीं हैं.

संबंधित समाचार