न्यूयॉर्क बम साज़िश: 25 साल की जेल

कोर्ट का स्केच इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption दोषी पाए गए चौथे व्यक्ति को अभी सज़ा सुनाई जानी बाक़ी है

न्यूयॉर्क शहर में यहूदी उपासनागृह को उड़ाने की साज़िश के दोषी पाए गए तीन पुरुषों को एक अदालत ने 25 साल की जेल की सज़ा सुनाई है. उन्हें सैन्य विमानों को निशाना बनाने की साज़िश रचने का भी दोषी पाया गया था.

इन तीन लोगों के नाम हैं - जेम्स क्रोमाइटी, डेविड विलियम्स और ऑंटा विलियम्स. इन्हें सामूहिक विनाश के हथियारों को इस्तेमाल करने की साज़िश रचने का दोषी पाया गया था. दोषी पाए गए चौथे व्यक्ति को अभी सज़ा सुनाई जानी बाक़ी है.

इन्हें वर्ष 2009 में तब गिरफ़्तार कर लिया गया था जब इन्होंने ख़ुफ़िया एजेंसी एफ़बीआई के 'अंडरकवर एजेंट' द्वारा दिए गए रिमोट से चलाए जाने वाले जाली बम यहूदी उपासनागृहों को पास छोड़े थे.

एफ़बीआई के एक मुख़बिर में इन्हें ये योजनाएँ बनाने में मदद की थी.

फ़ेडरल जज कोलीन मैकमोहन का कहना था कि ये लोग यहूदियों के लिए नफ़रत से प्रेरित थे. लेकिन उनके वकील का कहना था कि उन्हें एफ़बीआई के मुख़बिर में मूर्ख बनाया और उनसे कोई ख़तरा नहीं था.

सरकारी वकीलों का कहना था कि इन लोगों ने न्यूयॉर्क के ब्रोंक्स में यहूदी केंद्र में वो बक्से लगाए जिन्हें वो विस्फोटक समझ रहे थे और फिर उनमें धमाके करने की कोशिश की थी.

सरकारी वकीलों के अनुसार उन्होंने न्यूयॉर्क एयर नेशनल गॉर्ड्स के विमानों पर मिसाइलें भी दागने की साज़िश रची और एक वीडियो में इन लोगों को कंधे से चलाए जाने वाले मिसाइल लॉंचर का निरीक्षण करते हुए भी दिखाया गया.

संबंधित समाचार