लीबियाई विद्रोही वैध प्रतिनिधि: तुर्की

लीबियाई विद्रोही इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption विद्रोही लीबिया सरकार के टैंक आदि का उपयोग कर रहे हैं

तुर्की ने लीबिया के विद्रोही नेताओं को लीबियाई नागरिकों का वैध प्रतिनिधि घोषित करते हुए गद्दाफ़ी विरोधी फ़ौज के लिए 20 करोड़ डॉलर की सहायता का ऐलान किया है.

रविवार को बेनगाज़ी में तुर्की के विदेश मंत्री अहमत दावुतोगु ने ये घोषणा की है.

तुर्की की ये घोषणा लीबिया के विद्रोही नेताओं के उस बयान के एक दिन बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि अब वे राजधानी त्रिपोली की ओर कूच तैयारी कर रहे हैं.

अंतरराष्ट्रीय प्रमाण पत्र

विद्रोहियों के लिए इस घोषणा का अर्थ है पैसा, जिसकी उन्हें बहुत ज़रुरत है. इसके अलावा वैधता का एक और अंतरराष्ट्रीय प्रमाण पत्र जो इससे पहले उन्हें फ़्रांस, इटली और क़तर से मिल चुका है.

लेकिन इसकी संभावना कम है कि कर्नल गद्दाफ़ी तुर्की की इस अपील को स्वीकार करेंगे कि वे सत्ता छोड़ दें.

इससे पहले भी उनसे ऐसी अपीलें की गईं हैं लेकिन उन्होंने उनकी ओर ध्यान नहीं दिया.

विद्रोहियों की ओर से की गई इस अपील का भी कर्नल गद्दाफ़ी पर कोई असर नहीं हुआ है कि अगर वे सत्ता छोड़ देते हैं तो उन्हें देश में ही रहने की अनुमति दी जाए.

बयानबाज़ी

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption कर्नल गद्दाफ़ी पद छोड़ने की सारी अपील नामंज़ूर कर चुके हैं

एक और दोनों ओर से बयानबाज़ी का दौर चल रहा है वहीं संघर्ष की स्थिति यथावत बनी हुई है.

इससे पहले शुक्रवार को कर्नल गद्दाफ़ी ने यूरोप के ख़िलाफ़ कड़ा बयान जारी किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर नैटो की सेना ने बमबारी नहीं रोकी तो अपने लड़ाकों को टिड्डियों के झुंड की तरह छोड़ देंगे और यूरोप में घर-परिवार को निशाना बनाया जाएगा.

इस बयान के जवाब में विद्रोही नेताओं ने राजधानी त्रिपोली की ओर कूच करने की तैयारियों की घोषणा की थी.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि मिसराता में, जो विद्रोहियों का गढ़ बन गया है, सच्चाई ये है कि रॉकेट और मोर्टार दागे जा रहे हैं लेकिन किसी भी पक्ष को कोई बड़ी सफलता नहीं मिली है.

संबंधित समाचार