ब्रिटेन में फ़ोन हैंकिंग पर छिड़ी बहस

  • 6 जुलाई 2011
फ़ोन इमेज कॉपीरइट bbc
Image caption फोन हैकिंग को लेकर पत्रकारिता पर भी सवाल उठे

ब्रिटेन में एक मृत लड़की की फ़ोन हैकिंग को लेकर चल रही बहस ने नया मोड़ ले लिया है.

इस मामले पर उठे विवाद की गंभीरता का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ब्रिटेन के हाउस ऑफ़ कॉमन्स में इस मुद्दे पर आपात बहस होने जा रही है.

ब्रिटेन के अख़बार न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड पर आरोप है कि उसने एक स्कूली लड़की मिली डाउलर के फ़ोन को हैक किया, जिसकी हत्या हो गई थी और उस समय पुलिस उसे तलाश कर रही थी.

पिछले कुछ समय से फ़ोन हैकिंग का मसला ब्रितानी प्रेस में छाया हुआ है. लेकिन अब ये मामला कुछ सेलिब्रिटी, राजनेताओं या खिलाड़ियों का नहीं, बल्कि मुद्दा पत्रकारिता के उसूलों और मूल्यों का हो गया है.

दरअसल जब से ब्रितानी प्रेस में इस तरह की रिपोर्टें आई हैं कि मृत लड़की के वॉयसमेल को हैक किया गया, तब से ही इसको लेकर गंभीर सवाल उठाए जा रहे हैं.

दावा

दावा ये किया गया है कि न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड के लिए काम कर रहे एक प्राइवेट जासूस ने एक स्कूली लड़की के वॉयसमेल को हैक किया.

एक अन्य मामले में दो लड़कियों के अभिभावकों को ये बताया गया कि उनके भी वॉयसमेल हैक किए गए.

बच्चों का यौन शोषण करने वाले एक व्यक्ति ने इन दोनों लड़कियों की हत्या कर दी थी.

ब्रिटेन के कई सांसद इस मामले पर पहले ही अपनी नाराज़गी जता चुके हैं. प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कहा है कि फ़ोन हैकिंग को लेकर हुए ताज़ा घटनाक्रम से वो चकित हैं.

लेकिन आलोचनाओं के घेरे में आए ब्रितानी प्रेस की छवि को कैसे बहाल किया जाए, इस मामले पर अलग-अलग विचार सामने आ रहे हैं.

मांग

इमेज कॉपीरइट PA
Image caption मिली की हत्या वर्ष 2002 में कर दी गई थी

विपक्षी राजनेता इस मामले की पूरी जाँच चाहते हैं, लेकिन सरकार पुलिस की जाँच पूरी होने तक ऐसा करने से बच रही है.

इस मामले में पुलिस की भूमिका की भी आलोचना हो रही है और उस पर ये आरोप लगाए जा रहे हैं कि उसने इस स्कैंडल को गंभीरता से नहीं लिया.

लेकिन शायद सबसे ज़्यादा दबाव में हैं ब्रिटेन में न्यूज़ इंटरनेशनल की प्रमुख रेबेका ब्रुक्स, जो उस समय न्यूज़ ऑफ़ द वर्ल्ड की संपादक थी.

कई सांसद ये मानते हैं कि रेबेका का ये कहना काफ़ी नहीं कि उन्हें न्यूज़ ऑफ़ वर्ल्ड में चल रहे इन घटनाक्रमों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. रेबेका के त्यागपत्र की मांग भी तेज़ हो गई है.

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार